ताजिकिस्तान जेल में दंगा, आग में झोंक दिए कैदी-32 की माैत

मास्को (उत्तम हिन्दू न्यूज)- ताजिकिस्तान के न्याय मंत्रालय ने सोमवार को कहा कि 29 कैदियों और तीन जेल प्रहरियों सहित कम से कम 32 लोग दुशांबे के बाहरी इलाके में स्थित जेल में हुए एक दंगे में मारे गए। एफे न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार रूसी समाचार एजेंसी तास ने ताजिकिस्तान न्याय मंत्रालय के बयान के हवाले से कहा कि दंगे की शुरुआत आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट के कथित सदस्यों ने की। घटना रविवार को तब शुरू हुई जब कैदियों के एक समूह ने तीन जेल प्रहरियों को पकड़ लिया और उन्हें छुरा घोंप कर मार डाला।

मंत्रालय के अनुसार, इसके बाद समूह ने जेल में बंद कथित तौर पर इस्लामिक स्टेट से जुड़े आठ और सदस्यों को छुड़ा लिया। इसके बाद सभी ने मिलकर अन्य कैदियों को डराने के लिए पांच और कैदियों को मारा। कैदियों के समूह ने भागने के लिए कुछ कैदियों को बंधक बना लिया और कुछ को आग के हवाले कर दिया। बयान में कहा गया है कि 'कानून के अनुसार' प्रतिक्रिया संचालन के दौरान समूह के 24 सदस्यों को 'निष्प्रभावी' कर दिया गया, जबकि 35 अन्य कैदियों को गिरफ्तार कर बंधकों को मुक्त किया गया। ताजिकिस्तान के अधिकारियों ने कहा कि जेल में 1,500 कैदी मौजूद हैं, स्थिति नियंत्रण में है।
 

पिछले साल नवंबर में भी इसी तरह का हमला हुआ था जिसमें 24 कैदियों को इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों ने मार डाला था।