जैतापुर परमाणु सयंत्र में कार्य जल्द शुरू होगा : सुषमा

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने शनिवार को कहा कि महाराष्ट्र में प्रस्तावित जैतापुर परमाणु सयंत्र प्लांट के लिए काम जल्द ही शुरू होगा। सुषमा ने यहां फ्रांस के यूरोप व विदेश मामलों के मंत्री जीन-यवेस ली डरेन के साथ प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता के बाद कहा, "दोनों पक्ष जल्द से जल्द जैतापुर परमाणु संयत्र परियोजना को शुरू करने की दिशा में काम कर रहे हैं।"

उन्होंने संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा, "हम खुश हैं कि दोनों पक्षों ने न्यूक्लियर पावर कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (एनपीसीआईएल) और फ्रांसीसी कंपनी ईडीएफ के बीच 2018 में औद्योगिक मार्ग अग्रणी समझौते (इंडस्ट्रीयल वे फॉरवार्ड एग्रीमेंट) के परिप्रेक्ष्य में अच्छी प्रगति की है।" उन्होंने कहा, "आज हमने औद्योगिक मार्ग अग्रणी समझौते के कार्यान्वयन के लिए एक 'स्टेट्स ऑफ प्रोग्रेस' को भी अपनाया है।" प्रस्तावित परियोजना कुल उत्पादन क्षमता के आधार पर विश्व की सबसे बड़ी परमाणु ऊर्जा उत्पादन स्टेशन होगी।

ले डरेन ने कहा कि दोनों पक्षों ने जैतापुर में यूरोपियन प्रेसराइज्ड रिएक्टर ( ईपीआर) की समीक्षा की और आने वाले महीनों में उनके कार्य के दिशानिर्देश के लिए एक कार्य योजना भी स्वीकार किया ताकि ऊर्जा संयत्र बनाने की दिशा में जल्द से जल्द बढ़ा जा सके।

उन्होंने कहा, "छह ईपीआर 10 गीगावाट की क्षमता से लैस होगा, जोकि 2030 तक भारत के गैर-जीवाश्म ईंधनों से 40 प्रतिशत ऊर्जा उत्पादन के लक्ष्य को प्राप्त करने में महत्वपूर्ण योगदान देगा और यह भारत की ओर से 2015 पेरिस जलवायु सम्मेलन में प्रतिबद्धता के तहत होगा।" उन्होंने कहा, "जैतापुर परियोजना मेक इन इंडिया में भी योगदान देगा, क्योंकि इसमें उत्पादन, प्रौद्योगिकी, संयुक्त अध्ययन और प्रशिक्षण का स्थानांतरण सन्निहित है।"
 

Related Stories: