ऋण की किश्तें माफ करने को लेकर महिलाओं ने किया प्रदर्शन

अजमेर (उत्तम हिन्दू न्यूज): राजस्थान अजमेर शहर में रोजगार के लिए निजी बैंकों से लिए गए ऋण की किश्तें माफ करने या उसे कोरोना काल तक आगे बढ़ाने को लेकर आज प्रदर्शन किया। शहर के पहाड़गंज जटिया कॉलोनी की महिलाओं ने जिला कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन कर इस संबंध में जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपा। स्वरोजगार प्राप्त इन महिलाओं के समूह ने जिला कलेक्टर से मांग की कि उनके द्वारा रोजगार के लिए निजी बैंकों से लिए गए लोन की किश्तें माफ कराई जाए।

प्रदर्शन का नेतृत्व कर रही आशा जटिया ने बताया कि कोरोना महामारी के चलते शहर का पहाड़गंज क्षेत्र में गत छह महीने स्वरोजगार प्राप्त सभी महिलाएं बेरोजगार है। लोग काम पर नहीं आ रहे। खाने पीने के लाले पड़ गए हैं। व्यापार पूरी तरह ठप्प है। समूह के रुप में निजी बैंकों से लिए गए लोन की किश्तें चुकाना मुश्किल हो रहा है।

उन्होंने बताया कि ज्ञापन में मांग की गई हैे कि लोन की किश्तों को माफ कराया जाए अथवा इनकी अवधि को कोरोना समाप्त होने तक आगे बढ़ाया जाए। उल्लेखनीय है कि पहाड़गंज जटिया क्षेत्र में स्वरोजगार के तहत महिला समूह चप्पल निर्माण के व्यवसाय से बड़ी संख्या में जुड़ी हुई है। साथ ही अन्य घरेलू उपयोग की वस्तुएं आदि के निर्माण से भी जुड़ी हुई है।