न्याय योजना के लिए आयकर या मध्यम वर्ग पर बोझ नहीं बढ़ायेगी कांग्रेस सरकार: राहुल गांधी

महुवा (गुजरात) (उत्तम हिन्दू न्यूज): कांग्रेस अध्यक्ष्र राहुल गांधी ने आज कहा कि उनकी सरकार बनने पर देश के पांच करोड़ सबसे गरीब परिवारों को सालाना 72 हजार रूपये देने की न्याय योजना को तुरंत लागू किया जायेगा पर इसके लिए आयकर अथवा मध्यम वर्ग के ऊपर किसी तरह का बोझ नहीं बढ़ाया जायेगा। गांधी ने यह भी दावा किया कि इसके लिए विदेश भाग जाने वाले नीरव मोदी, मेहुल चौकसी, विजय माल्या जैसे ‘चोरों’ की जेब से पैसा निकाला जाएगा। उन्होंने गुजरात के भावनगर जिले के महुवा में एक चुनावी सभा में कहा कि पांच साल पहले देश की जनता ने यह सोचकर कि नरेन्द्र मोदी कुछ करेंगे, उन पर भरोसा दिखाया था। उन्होंने तीन बड़े वायदे- दो करोड युवाओं को हर साल रोजगार देने, सबके खाते में 15 लाख रूपये डालने और किसानों को फसल की बेहतर कीमत दिलाने के बारे में किये थे। अब इनकी चर्चा पर भी लोग हंसने लगते हैं। गांधी ने कहा कि भले ही 15 लाख रूपये वाला वादा झूठा था पर यह आयडिया अच्छा था। उन्होंने कांग्रेस के अर्थशास्त्रियों और थिंक टैंक से पूछा था कि कितना पैसा देश की अर्थव्यव्था को नुकसान पहुंचाये बिना सबसे गरीब पांच करोड़ परिवारों को दिया जा सकता है तो उन्होंने यह रकम 72000 बतायी। 

यह भी बताया गया कि यह मोदी सरकार की नोटबंदी और जीएसटी योजना जिनके चलते लोगों की जेब से पैसा निकल गया और खरीददारी वगैरह रूकने से फैक्टरियां बंद हो गयी, के उलट बंद अर्थव्यवस्था काे चालू करने वाला इंजन बन जायेगा। पैसा लोगों के खाते में डालने से वह खरीददारी शुरू करेंगे जिससे छोटे व्यवसायी ओर फैक्ट्रियों का कारोबार फिर से चल निकलेगा। इससे नौकरियां भी मिलेंगी। यह योजना अर्थव्यवस्था का इंजन चालू करने का काम करेगी।
उन्होंने कहा कि इसके लिए पैसा मध्यम वर्ग की जेब से नहीं लिया जायेगा या इसके लिए आय कर की दर नहीं बढ़ायी जायेगी बल्कि देश का पैसा लेकर बार भागे माल्या, नीरव मोदी, मेहुल चोकसी जैसे चोरों की जेब से निकाला जायेगा। गांधी ने कहा कि जब भी हम गरीबों के लिए कुछ करने की बात करते हैं तो मोदी जी पूछते हैं कि पैसा कहां से आयेगा। मोदी सरकार ने 10 से 15 बड़े उद्योगपतियों का साढे़ तीन लाख करोड़ का कर्ज माफ कर दिया पर किसानों का रिण माफ नहीं किया। कांग्रेस ने अपने शासित राज्यों में ऐसा कर दिखाया है। उन्होंने आरोप लगाया कि फसल बीमा योजना से भी अनिल अंबानी और अन्य बड़े उद्योगपतियों को फायदा हुआ है। उनकी सरकार बनने पर किसानों के लिए अलग बजट बनाया जायेगा तथा यह सुनिश्चित किया जायेगा कि किसानों को कर्ज अदायगी न करने के कारण जेल न जाना पड़े।

गांधी ने कहा कि एक तरफ अनिल अंबानी, नीरव मोदी, मेहुल चौकसी और विजय माल्या जैसे अरबपति बैंकों का बड़ा कर्ज नहीं अदा करने के बावजूद जेल में नहीं है तो दूसरी तरफ छोटी रकमों के लिए किसानों को जेल में डाला जा रहा है। यह गलत है। या तो दोनो को जेल होनी चाहिए या किसी को नहीं। कांग्रेस सरकार बनने पर किसानों को कर्ज के चलते जेल नहीं जाना पड़ेगा। उन्होंने आरोप लगाया कि खुद को चौकीदार कहने वाले मोदी असल में अंबानी और अडानी जैसे उद्योगपतियों के चौकीदार हैं जिन्हे वह सारे संसाधन दे रहे हैं। वह दो तरह का भारत बनाना चाहते हैं। एक 15 से 20 सबसे अमीरों के लिए आसानी से उपलब्ध सभी सुविधाओं वाला और दूसरा जिसमें आम आदमी के लिए बच्चों की पढ़ाई और इलाज भी बेहद महंगे हों।

गांधी ने दोहराया कि मोदी ने खुद पहल कर राफेल विमान सौदा अपने मित्र उद्योगपति अनिल अंबानी को दिलाया। यह सौदा पहले सरकारी कंपनी एचएएल को मिलने वाला था जो 70 साल से विमान निर्माण कर रही है और जिसने पाकिस्तान पर बम गिराने वाले मिराज और मिग जैसे विमानों का रखरखाव भी किया है जबकि अंबानी को विमान निर्माण का कोई अनुभव नहीं है। मोदी ने उन्हें लाभ पहुंचाने के लिए विमान की कीमत बढ़ा दी और कई शर्तों में भी बदलाव करवा दिया। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि वह मोदी की तरह झूठे वायदे नहीं करेंगे। उन्होंने कहा, ‘मै झूठ नहीं बोलूंगा कि 15 लाख रूपये खाते में डालूंगा। अगर उतना डाला तो अर्थव्यवस्था नष्ट हो जायेगी पर उतना जरूर डालूंगा जिससे ऐसा नहीं हो। मै दो करोड़ रोजगार की बात नहीं करूंगा पर 22 लाख सरकारी नौकरियां हैं वह हम देंगे। पंचायतों में दस लाख रोजगार दिये जा सकते हैं । किसानों की मदद हो सकती है कर्ज माफ किया जा सकता है।’