अंतरराष्ट्रीय उड़ानों के लिए करना होगा इंतजार

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज)-नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने आज कहा कि अंतरराष्ट्रीय उड़ान शुरू करने से पहले अनुकूल परिस्थितियों का इंतजार करना होगा। पुरी ने दिल्ली अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा लिमिटेड (डायल) द्वारा आयोजित एक वेबिनार में कहा कि अंतरराष्ट्रीय उड़ान शुरू करने का फैसला अकेले नागरिक उड्डयन मंत्रालय नहीं कर सकता। राज्यों को विदेशों से आने वाले यात्रियों की जांच और क्वारंटीन संबंधी सुविधाओं के लिए तैयार होना होगा। विदेशों से आने वाले यात्रियों के लिए महानगरों से छोटे शहरों की यात्रा के लिए घरेलू उड़ानों की संख्या बढ़ानी होगी।


‘उड़ान के लिए दुबारा विश्वास कायम करना’ विषय पर आयोजित वेबिनार में उन्होंने कहा,“ हम अंतरराष्ट्रीय उड़ान शुरू करने (या न करने) के बारे में अगले महीने कोई फैसला कर सकते हैं। हम यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि एक बार शुरू करने के बाद हमें दुबारा इसे बंद न करना पड़े। मैं अभी इस बारे में कोई समय सीमा तय नहीं करना चाहता कि कब तक अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शुरू होंगी।”

नागरिक उड्डयन मंत्री ने कहा कि सरकार ने 25 मई से कोविड पूर्व स्तर की तुलना में एक-तिहाई उड़ानें शुरू करने का फैसला किया था। अभी उस एक-तिहाई में भी मात्र 70 फीसदी प्रतिशत उड़ानों का परिचालन हो रहा है। पहले हम एक-तिहाई का लक्ष्य पूरी तरह हासिल करना चाहेंगे। उसके बाद कोविड पूर्व स्तर के 50 प्रतिशत पर पहुंचने के बाद ही अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शुरू करने के बारे में सोचा जा सकता है।

कोविड-19 का संक्रमण रोकने के लिए देश में नियमित अंतरराष्ट्रीय यात्री उड़ानों का परिचालन 22 मार्च से और नियमित घरेलू यात्री उड़ानों का परिचालन 25 मार्च से बंद कर दिया गया था। घरेलू उड़ानों का परिचालन 25 मई से दुबारा शुरू कर दिया गया है, लेकिन अंतरराष्ट्रीय उड़ानें अब भी बंद हैं।