हरियाणा में तीन नई जेलें निर्माणाधीन, जेलों में लगाए जा रहे हैं जैमर : पंवार

चंडीगढ़/मोहन अरविंद : हरियाणा के जेल मंत्री कृष्ण लाल पंवार ने आज कहा कि राज्य की जेलों में कैदियों के लिये सुविधाओं में सुधार करने के साथ ही तीन नई जेलों का निर्माण किया जा रहा है और सभी जेलों में जैमर लगाने का काम भी शुरू हो चुका है। श्री पंवार ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि राज्य की सभी जेलों के लिए 140 मोबाइल फोन जैमरों की आवश्यकता है। प्रथम चरण में 6.76 करोड़ रुपये की लागत से झज्जर, सोनीपत, अम्बाला और गुरुग्राम में 4जी जैमर लगाए जा रहे हैं। दूसरे चरण में 17.53 करोड़ रुपये की लागत से जिला जेल रोहतक में 11 तथा गुरुग्राम में 17 4जी जैमर लगाने की योजना है। उन्होंने बताया कि हरियाणा में कुल 19 जेल हैं। इन जेलों में लगभग 18,230 कैदियों को रखने की क्षमता है और इस समय लगभग 19,860 कैदी जेलों में बंद हैं।

उन्होंने बताया कि पानीपत, रेवाड़ी और नूह में नई जेलों का निर्माण किया जा रहा है जिनकी क्षमता एक-एक हजार कैदियों की होगी। इसके अलावा जिला जेल जींद और सिरसा में तीन-तीन अतिरिक्त पुरुष बैरकों का निर्माण किया जा रहा है। जिला जेल भिवानी में पांच पुरुष बैरकों और एक महिला बैरक का निर्माण कार्य प्रगति पर है। इनके अलावा जिला जेल करनाल और फरीदाबाद में ओपन एयर कैम्पस स्थापित किए जाएंगे जिसके तहत जेल से बाहर 30-32 मकान बनाए जाएंगे जहां कैदी अपने परिवार के साथ रह सकेंगे और बाहर जाकर छोटा-मोटा काम भी कर सकेंगे। ये मकान ऐसे कैदियों को दिए जाएंगे जिनका व्यवहार अच्छा होगा।

जेल मंत्री के अनुसार पहले कैदियों को उनके परिजनों से सप्ताह में 10 मिनट फोन पर बात करने की अनुमति थी। वर्तमान सरकार ने पुरुषों के लिए बात करने का समय सप्ताह में 10 मिनट से बढ़ाकर 35 मिनट और महिला कैदियों के लिए 60 मिनट किया है। इसके अलावा तेरह जेलों में वीडियो कॉङ्क्षलग की सुविधा भी प्रदान की गई है। जेलों में कैदियों के खान-पान का विशेष ध्यान रखा जाता है।

उन्होंने बताया कि पहले कैदियों को केंटीन से सामान खरीदने के लिए प्रतिमाह 6,000 रुपये तक के कैशलेस कूपन दिए जाते थे। पहली नवम्बर 2018 से यह राशि बढ़ाकर 8,000 रुपये प्रतिमाह की गई है। एक सवाल पर श्री पंवार ने कहा कि जेलों में धूम्रपान पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया गया था। लेकिन भ्रष्टाचार की शिकायत मिलने पर पुन: धूम्रमान की अनुमति दी गई और इसके लिए अलग से स्मोकिंग जोन या हॉल इत्यादि बनाने पर विचार किया जा रहा है। जेलों में मोबाइल मिलने से जुड़े एक अन्य सवाल पर उन्होंने बताया कि मोबाइल मिलने पर सम्बंधित कैदी के खिलाफ मुकद्दमा दर्ज कराया जाता है और उसकी सजा की अवधि भी बढ़ाई जा सकती है।

एक और सवाल पर उन्होंने बताया कि सरकार द्वारा स्वतंत्रता दिवस, हरियाणा दिवस, गणतंत्र दिवस तथा राज्य की स्वर्ण जंयती के अवसर पर सजायाफ्ता कैदियों को विशेष माफी दी जाती है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार राजीव जैन, जेल विभाग के महानिदेशक के.सेल्वराज, महानिरीक्षक  जगजीत सिंह तथा आवास विभाग के प्रधान सचिव श्रीकांत वल्गद और आवास बोर्ड के मुख्य प्रशासक सतपाल शर्मा भी उपस्थित थे।
 

Related Stories: