यवतमाल में तीन किसानों ने आत्महत्या की

नागपुर (उत्तम हिन्दू न्यूज): महाराष्ट्र के यवतमाल जिला में बैलगाडी उत्सव (पोला) के दौरान तीन किसानों ने आत्महत्या कर ली। सूत्रों के अनुसार फसल से बर्बाद होने से परेशान किसान बैंकों को कर्ज वापस नहीं कर पा रहे थे जिसके कारण उन्होंने ऐसा कदम उठा लिया। मृतकों की शिनाख्त हो चुकी है, उनके नाम 52 वर्षीय विजय विश्वनाथ पार्धी, 27 वर्षीय अंकुश जंघारे और 21 वर्षीय सूरज सुभाषराव सावरकर हैं।

पीड़ित विजय पार्धी के पास पांच एकड़ जमीन है जिस पर उन्होंने बैंक से 80 हजार रुपये ऋण लिये थे। उनके खेत में पिछले वर्ष कपास की खेती लगी थी जो कीड़े लगने के कारण बर्बाद हो गयी और उन्हें इसके लिए क्षति पूर्ति मिलनी चाहिए थी। उनकी क्षतिपूर्ति बैंक में जमा की गयी थी लेकिन बैंक अधिकारी पीड़ित को पिछले आठ दिनों से परेशान रहे थे। परेशान होकर किसान ने आत्महत्या कर ली।

गजानन जंघारे ने 60 हजार रुपये का बैंक से ऋण लिया था लेकिन फसल के खराब होने के कारण वह कर्ज वापस नहीं कर पा रहे थे इसलिए उन्होंने फांसी लगा कर आत्महत्या कर ली। पीड़ित सूरज सावरकर ने भी कर्ज के दबाव के कारण जहर खाकर आत्महत्या कर ली।

Related Stories: