Monday, May 20, 2019 04:52 PM

तीसरे चरण का मतदान संपन्न, पश्चिम बंगाल में सबसे अधिक और अनंतनाग में सबसे कम वोटिंग 

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): सत्रहवीं लोकसभा के लिए मंगलवार को तीसरे चरण में 13 राज्यों और दो केंद्र शासित प्रदेशों की 116 सीटों पर कई स्थानों पर हुई हिंसक घटनाओं के बावजूद 63.64 प्रतिशत मतदान हुआ है। पश्चिम बंगाल, त्रिपुरा, असम, गोवा और केरल में बंपर वोटिंग हुई है। तीसरे चरण में पश्चिम बंगाल की पांच सीटों पर कुल 79.36 प्रतिशत मतदान की रिपोर्ट है। सबसे कम मतदान जम्मू.कश्मीर की अनंतनाग सीट पर मात्र 12.86 प्रतिशत हुआ। अनंतनाग सीट के कुछ क्षेत्रों में ही आज मतदान हुआ है। असम में 78.56 प्रतिशत,त्रिपुरा में 78.52 प्रतिशत,  दादर नगर हवेली में 71.43 प्रतिशत मतदान होने की रिपोर्ट है जबकि गोवा में 71.26 और केरल में 70.26 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया है।
 

छत्तीसगढ़ में 66.78 और दमन एवं दीव में 65.34 प्रतिशत वोटिंग हुई है । कर्नाटक में 64.58 प्रतिशत ,गुजरात में 60.93, बिहार में 59.97 प्रतिशत ओडिशा में 58.18 और उत्तर प्रदेश में 58.04 प्रतिशत मतदान हुआ है । महाराष्ट्र में 57.05 प्रतिशत मतदाताओं ने वोट डाले। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के गृह राज्य गुजरात की सभी 26 लोकसभा सीटों पर दोपहर में तेज गर्मी और तापमान में बढ़ोत्तरी के बावजूद मतदाताओं का उत्साह जारी था। हालांकि कुछ स्थानों पर दोपहर के बाद कतारें गायब हो गयी थीं। वैसे सुबह ही कई मतदान केंद्रों पर लंबी कतारे लग गयीं थी। सुबह जल्दी ही मतदान करने वालों में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अहमदाबाद के राणिप मेंं निशान स्कूल में बने बूथ पर वोट दिया। इस मौके पर गांधीनगर लोकसभा सीट के भाजपा प्रत्याशी तथा पार्टी अध्यक्ष अमित शाह भी उनकी अगवानी के लिए मौजूद थे। प्रधानमंत्री की लगभग 90 वर्षीय माता हीराबा ने गांधीनगर के रायसण गांव के एक बूथ में मतदान किया। श्री मोदी ने मतदान देने से पहले यहां मां हीराबा से मुलाकात की और उनका आशीर्वाद लिया। उनकी पत्नी जसोदाबेन ने मेहसाणा लोकसभा क्षेत्र के ऊंझा इलाके में मतदान किया जहां विधानसभा उपचुनाव भी हो रहा है। शाह ने बाद मेें सपरिवार नाराणपुरा में मतदान किया। मध्य प्रदेश की राज्यपाल तथा गुजरात की पूर्व मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल ने अहमदाबाद के शीलज मेे वोट डाला। मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने पत्नी अंजलीबेन के साथ राजकोट में मतदान किया। नेता प्रतिपक्ष तथा कांग्रेस के उम्मीदवार परेश धानाणी ने अमरेली में वोटिंग की। कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल ने सुरेन्द्रनगर लोकसभा क्षेत्र के तहत आने वाले वीरमगाम में मतदान किया। गुजरात में चुनाव के दौरान भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, राज्य सरकार के मंत्री परबत पटेल, चार पूर्व केंदीय मंत्रियों और राज्य विधानसभा में विपक्ष के नेता परेश धानाणी के अलावा अन्य सात कांग्रेस विधायकों समेत 371 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला होगा। 



वरिष्ठ भाजपा नेता तथा गांधीनगर सीट का छह बार संसद में प्रतिनिधित्व कर चुके दिग्गज लाल कृष्ण आडवाणी ने शाहपुर के हिंदी स्कूल बूथ में आम मतदाता की तरह मतदान किया जो अहमदाबाद पश्चिम लोकसभा क्षेत्र के तहत आता है। उनके साथ उनकी पुत्री प्रतिभा भी उपस्थित थीं। वित्त मंत्री अरूण जेटली ने गांधीनगर क्षेत्र के तहत आने वाले अहमदाबाद के एसजी हाई वे के निकट चिमनभाई संस्थान बूथ पर मतदान किया।  प्रधानमंत्री से कथित नजदीकी के कारण कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के निशाने पर रहने वाले अरबपति उद्योगपति गौतम अडानी ने मोहम्मदपुरा में मतदान किया। यह गांधीनगर लोकसभा क्षेत्र में आता है। कांग्रेस के कोषाध्यक्ष अहमद पटेल ने भरूच के अंकलेश्वर में मतदान किया। पूर्व मुख्यमंत्री शंकरसिंह वाघेला और माधवसिंह सोलंकी ने गांधीनगर तथा पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल ने राजकोट में वोट डाला।

गुजरात के मुख्य चुनाव अधिकारी एस मुरली कृष्णा ने बताया कि 26 लोकसभा सीटों के साथ ही गुजरात में कांग्रेस विधायकों के इस्तीफे के कारण चार विधानसभा सीटों जामनगर ग्रामीण, ऊंझा, ध्रांगध्रा और माणावदर में उपचुनाव भी हो रहे हैं। मतदान सुबह सात बजे से शाम छह बजे तक हुआ। यहां कुल 4,51,25,680 मतदाताओं में 2,16,96,571 महिलाएं हैं और 990 ट्रांस जेंडर हैं। पहली बार मतदान करने वाले 18 से 19 साल के मतदाताओं की कुल संख्या 10,06,855 है। मतदान के लिए दो लाख 23 हजार से मतदानकर्मी लगाये गये।

गौरतलब है कि गुजरात में मुख्य मुकाबला सत्तारूढ़ भाजपा और मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस के बीच माना जा रहा है। भाजपा ने पिछली बार सभी 26 लोकसभा सीटों पर जीत हासिल की थी। यहां दो सप्ताह तक चले जबरदस्त प्रचार अभियान के दौरान प्रधानमंत्री ने सात चुनावी रैलिंयां की थी जबकि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ऐसी चार सभाएं की थीं। दोनो ने एक दूसरे पर सीधे आरोप लगाये थे। प्रचार के दौरान भाजपा ने जहां राष्ट्रीय सुरक्षा, आतंकवाद और विकास के साथ ही साथ कांग्रेस के गुजरात के साथ कथित अन्याय को मुख्य मुद्दा बनाया वहीं कांग्रेस ने नोटबंदी और जीएसटी के अलावा किसानों की बदहाली और बेरोजगारी आदि को प्रमुखता से उठाया। चुनाव प्रचार के दौरान कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल पर हुए हमले की भी खासी चर्चा रही। सुरेन्द्रनगर के बलदाणा गांव में उनकी सभा के दौरान एक व्यक्ति ने उन को तमाचा जड़ दिया था। गुजरात से लोकसभा चुनाव में श्री शाह के अलावा प्रमुख उम्मीदवारों में चार पूर्व केंद्रीय मंत्री भरतसिंह सोलंकी (कांग्रेस, आणंद), तुषार चौधरी (कांग्रेस, बारडोली), मनसुख वसावा (भाजपा भरूच) और मोहन कुंडारिया (भाजपा राजकोट) हैं। इनके अलावा राज्य के मंत्री परबत पटेल बनासकांठा सीट पर भाजपा उम्मीदवार है। कांग्रेस ने नेता विपक्ष और अमरेली के विधायक परेश धानाणी समेत आठ विधायकों को भी चुनाव मैदान में उतारा है।

भाजपा ने चार निवर्तमान सांसदों समेत छह महिलाओं को टिकट दिया है जबकि कांग्रेस ने केवल एक महिला प्रत्याशी को मैदान में उतारा है। भाजपा ने एक भी मुस्लिम उम्मीदवार नहीं बनाया है जबकि कांग्रेस ने मात्र एक मुस्लिम को टिकट दिया है। राज्य की दो सीटे अनुसूचित जाति तथा चार अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित हैं।

देश की सबसे बड़ी और तेज WhatsApp News Service से जुड़ने के लिए हमारे नंब 7400023000 पर Missed Call दें। इस नंबर को Save करना मत भूलें।