सरबंस दानी के देश में धर्म परिवर्तन के लिए कोई जगह नहीं : तलवाड़

होशियारपुर (विकास सूद) - भारत के गौरवमयी इतिहास में श्री गुरू  गोबिंद सिंह जी की नाम स्वर्ण अक्षरों में लिखा गया है। उन के बलिदान के आगे समस्त देश नतमस्तक है और भारत गौरव उन्हे राष्ट्र नायक होने के नाते नमन करता है।

 उपरोक्त  शब्द भारत गौरव संस्था के चेयरमैन व पूर्व केन्द्रीय राज्य मंत्री विजय सांपला ने भारत गौरव की महिला इकाई की प्रदेशाध्यक्ष, पार्षद नीति तलवाड़ की अध्यक्षता में श्री गुरू  गोबिंद सिंह जी के साहिबजादों की शहीदी को सर्मपित दिवस पर  करवाए गए खालसाई खेल गतका के आयोजन पर कहे। इस अवसर पर धर्म जागरण समन्वय, पंजाब के प्रंात प्रशासन प्रमुख संजीव तलवाड़ ने कहा कि दुनिया के इतिहास में ऐसा बलिदानी परिवार नहीं हुआ, जिस ने धर्म की रक्षा हेतु सरबंस वार दिया हो और जिस उम्र में बच्चे खिलौनों के साथ खेलने की जि़द करते हैं,  उस उम्र में श्री गुरू  गोबिंद सिंह जी के साहिबजादों ने धर्म की रक्षा हेतु बलिदान दे दिया।

तलवाड़ ने कहा कि हिन्द की चादर श्री गुरू  तेग बहादुर जी ने धर्म को बचाने की जिस परंपरा को अपनाया, उस परंपरा पर चलते हुए साहिबजादों ने अपना बलिदान दे दिया। उन्होंने कहा कि एक और ऐसी बलिदानी घटना और दूसरी तरफ उसी देश में धर्म परिवर्तन होना उन के अनुयाईयों के लिए बहुत दुखदायी है। इस मौके पर पार्षद नीति तलवाड़ ने कहा कि एक प्रयास किया गया है कि हमारे बच्चे अपनी संस्कृति को न भूलें और जिस परंपरा पर चलते हुए साहिबजादों ने बलिदान दिया, उसी परंपरा को निभाते हुए धर्म की रक्षा हेतु अपना जीवन लगाएं, इसी सोच के ले कर बच्चों के साथ ऐसे कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है। इस अवसर पर भाई बचित्तर सिंह गतका अखाड़ा, होशियारपुर के सदस्यों ने खालसाई खेल गतका का प्रदर्शन कर दर्शकों को मंत्रमुगध कर दिया। इस अवसर पर भारी संख्या में शहरवासी उपस्थित थे।