मोदी की लोकप्रियता में हुआ जबरदस्त इजाफा 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जलवा बरकरार है। मोदी की लोकप्रियता लगातार बनी हुई है।  बढ़ती कीमतों (खासतौर पर पेट्रोल-डीजल), किसानों के आंदोलन, बेरोजगारी, कारोबार के नुकसान, नोटबंदी, जीएसटी आदि की नाराजगी के बावजूद लोगों पर अभी भी मोदी का जादू बरकरार है। मोदी सरकार के सात  साल के कार्यकाल  दौरान उनके विरोधियों में उनके प्रति बेहद नाराजगी का भाव है। देश की अर्थव्यवस्था में गिरावट आई है और बेकारी बढ़ी है । इसके बावजूद लोगों का मानना है कि भ्रष्टाचार को काबू में करने का मोदी ने ईमानदारी से  प्रयास किया है जिसकी वजह से सरकारी मदद का लाभ जरूरतमंद गरीबों और असहाय लोगों तक पहुंचा है। कोरोना काल में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दुनियाभर में लोकप्रियता में जबर्दस्त इजाफा हुआ है। अमेरिकी एजेंसी मॉर्निंग कंसल्ट द्वारा किए गए सर्वे में ये बात निकलकर आई है। एजेंसी के मुताबिक पीएम मोदी की कुल अप्रूवल रेटिंग 55 प्रतिशत है। एजेंसी की रिपोर्ट में यह भी दिखाया गया है कि नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता सभी वैश्विक नेताओं में सबसे अधिक है। यह एजेंसी दुनिया भर के नेताओं और सरकार की अप्रूवल रेटिंग जारी करती है।  मॉर्निंग कंसल्टिंग पॉलिटिकल इंटेलिजेंस वर्तमान में 13 देशों (ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, भारत, इटली, जापान, मैक्सिको, दक्षिण कोरिया, स्पेन, यूनाइटेड किंगडम, संयुक्त राज्य अमेरिका) में नेताओं की रेटिंग पर नजर रखती है। दुनिया भर के नेताओं और सरकार की रेटिंग के लिए सर्वेक्षण करती रहती है। एक  अन्य वैश्विक सर्वे में माना गया है कि विभिन्न समस्याओं को त्वरित निपटाने में मोदी बहुत आगे है। विशेषकर कोरोना महामारी को थामने में मोदी के प्रयास बेमिसाल है। दुनिया के देश कोरोना को नियंत्रित करने में अधिक सफल नहीं हुए जबकि मोदी ने कोरोना को थामने में सफलता हासिल की है।
बाल मुकुन्द ओझा
लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं। 
पता: डी-32, मॉडल टाउन, मालवीय नगर, जयपुर
मो.- 8949519406