परिवार से मिलने के लिए 200 किमी पैदल चला युवक, बहन को आखिरी फोन-फिर चली गई जान

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): कोरोना वायरस से निपटने के लिए पीएम मोदी ने 21 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा की थी। लेकिन इस लॉकडाउन ने हजारों लोगों की रोजी रोटी छीन ली है। जिसके चलते दूसरे राज्यों से आए लोग अब पलायन कर रहे हैं। भूखे प्यासे पलायन कर रहे लोगों को कई परेशानियों का सामना कारण पड़ रहा है। इसी बीच एक दुःख भरी खबर समय आई है।    

लॉकडाउन के दौरान दिल्ली से पैदल ...

खबर के मुताबिक दिल्ली से मुरैना जाने के लिए निकले एक मजदूर की 200 किलोमीटर की यात्रा करने के बाद मौत हो गई। बताया जा रहा है कि दिल्ली में टिफिन डिलिवरी का काम करने वाले इस मजदूर की आगरा के सिकंदरा थाना क्षेत्र में मौत हो गई थी। परिवार के मुताबिक, मौत से कुछ देर पहले ही उसने अपनी बहन को फोन करके ये कहा था कि उसकी तबीयत बिगड़ गई है।

टिफिन डिलीवरी करने वाले इस दिहाड़ी मजदूर रणवीर की लॉकडाउन की वजह से होटल मालिक ने छुट्‌टी कर दी थी। उसके पास वापस अपने गांव जाने के अलावा कोई चारा नहीं बचा था, लेकिन बस और ट्रेन बंद थी इसलिए वह शुक्रवार को शाम 3 बजे अपने कुछ साथियों के साथ पैदल मुरैना के लिए निकल पड़ा। अपनी मौत से पहले रणवीर 200 किलोमीटर चल चुका था।

कोरोना लॉकडाउन के चलते मज़दूरों का ...

रणवीर मुरैना में अपनी पत्नी, बच्चों और मां के पास जा रहा था और इनकी परवरिश की जिम्मेदारी के लिए ही वो दिल्ली गया था। रणवीर ने घर के लिए निकलने के बाद अपने बहन को फोन किया था और फरीदाबाद तक पहुंचने की जानकारी दी। शनिवार सुबह रणवीर के आगरा पहुंचने तक उसके साथी उससे आगे निकल गए और इसी बीच रणवीर की तबीयत भी बिगड़ गई।