किसानों ने होली के पर्व पर किया तीनों कानून का दहन

उचाना (नरेन्द्र जेठी  ) : खटकड़ टोल पर किसानों ने होली के पर्व को काली होली के रूप में मनाया। यहां पर किसानों ने होलिका दहन की जगह जो तीन कृषि कानून है उनका दहन किया। धरने की अध्यक्षता राममेहर जांगड़ा छापड़ा ने की। अनशन पर जंगीर पालवां, जिले सिंह, जिले सिंह खटकड़, मेवा सिंह, आजाद दरियावाला सांकेतिक हड़ताल पर रहे। संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर किसानों ने होली का पर्व न मना कर काली होली मनाई। खेड़ा खाप प्रधान सतबीर बरसोला ने कहा कि होली के पर्व पर जो तीन कृषि कानून है उनके विरोध में काले कानून को होली में दहन करते हुए होली का पर्व मनाया। ये जो तीनों कानून है ये खेती, किसान के लिए खतरनाक है। तीनों कानूनों को रद्द करवाने की मांग को लेकर बीते चार महीनों से किसान दिल्ली बार्डर पर शांति पूर्वक धरना दे रहे है। आज ये आंदोलन जन आंदोलन बन चुका है।

किसान शांति पूर्वक तरीके से यूं ही आंदोलन जारी रखेंगे जब तक तीनों कानून रद्द नहीं होते, एमएसपी पर कानून सरकार नहीं बनाती है। इस मौके पर सिकिक्म सफा खेड़ी, कैप्टन भूपेंद्र जागलान, बलवान, राममेहर, मीला, ज्ञानी, नफे सिंह, चांदीराम, टेकराम, सरजीत, लीलू मौजूद रहे।