इस गांव में बिल्ली पालने पर लगा प्रतिबंध, कारण जानकर हो जाएंगे हैरान 

वेलिंग्टन (उत्तम हिन्दू न्यूज) : गांव ने फैसला लिया है कि अब यहां कोई बिल्ली को बतौर पालतू जानवर नहीं रखेगा। न्यूजीलैंड का ओमायू गांव ने बिल्लियों को बैन करने का फैसला लिया है। यानि कि अब यहां कोई भी व्यक्ति बिल्लियों को नहीं पाल सकेगा। इस बैन के पीछे की वजह कोई छोटी-मोटी नहीं, बल्कि काफी बड़ी बताई जा रही है। आइए जानते हैं इसके पीछे का कारण!

गांव ने तय किया है कि जिनके पास बिल्लियां हैं, वो उन्हें रख सकते हैं लेकिन उनके मरने के बाद कोई बिल्ली को नहीं पाल सकता। इस गांव में करीब 35 लोगों ने 7 से 8 बिल्लियां पाली हुई हैं और ये अब आगे और बिल्लियां नहीं पाल पाएंगे। इस अजीबोगरीब फैसले के पीछे एक बड़ी वजह है। इस गांव में बिल्लियों को बैन करने का फैसला इसलिए लिया जा रहा है क्योंकि बिल्लियां पक्षियों को खा जाती है। 

दरअसल, गांव के लोग बिल्लियों के साथ पक्षी भी पालते हैं। ये बिल्लियां पक्षियों का शिकार कर लेती हैं। इसके कारण प्राकृतिक रूप से भी पक्षियों की संख्या कम होने लगी है। इस गांव में पक्षियों की ऐसी कई प्रजातियां हैं जो और कहीं नहीं पाई जाती। ऐसे में बिल्ली के शिकार से इन पक्षियों की तादाद कम हो रही है और ये विलुप्ति की कगार पर पहुंच गई हैं। न्यूजीलैंड में ऐसी कई प्रजाति की पक्षियां पाई जाती हैं जो दुनिया में कहीं और देखने को नहीं मिलती। न्यूजीलैंड उन पक्षियों के संरक्षण के लिए काफी काम कर रहा है।

ऐसे में ये बिल्लियां इसके लिए दुश्मन हो गयी हैं। यही कारण है कि गांव के लोगों ने बिल्लियों के पालन पर रोक लगा दी है। हालांकि जिनके पास बिल्लियां हैं उसे हटाने के लिए नहीं कहा गया है लेकिन इतना जरूर बता दिया गया है कि अब नई बिल्लियां नहीं आएगी या उसे कोई नहीं पालेगा। 
 

Related Stories: