सुजान सिंह पठानिया पंचतत्व में विलीन, नम आंखों से दी विदाई

कांगड़ा (रितेश ग्रोवर): जिला कांगड़ा के फतेहपुर के विधायक एवं पूर्व मंत्री सुजान सिंह पठानिया का शनिवार को मंझार (हाडा) में राज्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। पुलिस जवानों की टुकड़ी व कांग्रेस सेवादल ने सलामी देकर उन्हें अंतिम विदाई दी। विधायक के पुत्र भवानी पठानिया ने पार्थिक देह को मुखाग्रि दी।

सुजान सिंह पठानिया की अंतिम यात्ना में कांग्रेस, भाजपा के मंत्रियों सहित सैकड़ों लोग शामिल हुए। श्मशानघाट पर चिता पर लकड़ी डालने के लिए भी घंटों लंबी लाइनें लगी रहीं। अंतिम यात्ना में जिलाधीश कांगड़ा राकेश प्रजापति, एसपी कांगड़ा विमुक्त रंजन, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप राठौर, नेता प्रतिपक्ष मुकेश अिग्नहोत्नी, पूर्व मंत्नी जीएस बाली, पूर्व मंत्नी चौधरी चंद्र कुमार, विधायक विक्र मादित्य, विधायक पवन काजल, पूर्व मंत्नी सुधीर शर्मा, पूर्व मंत्नी विप्लव ठाकुर, पूर्व कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सुखिवंदर सुक्खू, कांग्रेस नेत्नी आशा कुमारी, यादवेंद्र गोमा, पूर्व विधायक अजय महाजन, कांग्रेस नेता केवल सिंह पठानिया, पूर्व सांसद डॉ राजन सुशांत, पूर्व राज्यसभा सदस्य कृपाल परमार, वन मंत्री राकेश पठानिया, जवाली के विधायक अर्जुन सिंह, पूर्व मंत्नी डॉ हरबंस राणा सहित काफी संख्या में कांग्रेस व भाजपा के पदाधिकारियों/ कार्यकर्ताओं ने भाग लेकर शोक संतप्त परिवार के प्रति अपनी संवेदनाएं प्रकट की। प्रदेश की सत्तासीन सरकार की तरफ से परिवहन मंत्नी विक्र म ठाकुर ने संस्कार में शामिल होकर अंतिम विदाई दी। फतेहपुर बाजार को पूर्णतया व्यापार मंडल के निर्णयानुसार बंद रखा गया।

राजनीतिक क्षेत्र में हमेशा याद रहेंगे सुजान : कांग्रेस
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप राठौर, नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री, पूर्व मंत्नी चौधरी चंद्र कुमार, जिला अध्यक्ष अजय महाजन, विधायक विक्रमादित्य ने कहा कि उनकी मौत से कांग्रेस को काफी क्षति हुई है जिसकी पूर्ति कभी नहीं हो पाएगी। उन्होंने कहा कि राजनीतिक क्षेत्न में उनको युगों-युगों तक याद किया जाता रहेगा।

राजनीति में सुजान जैसा कोई कोई सानी नहीं : भाजपा
भाजपा सरकार में परिवहन मंत्री बिक्रम ठाकुर ने कहा कि सुजान सिंह पठानिया की मौत से भाजपा गमगीन है। राजनीति में उनका कोई सानी नहीं है। उन्होंने कहा कि सुजान सिंह पठानिया की मौत से राजनीतिक क्षेत्न को हानि हुई है जिसकी पूर्ति कभी भी नहीं हो पाएगी।