शुरू करें ये खास बिजनेस हर महीने होगी लाखों की कमाई, जानिए कैसे

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज) - रेग्‍यूलर कमाई के लिए अगर आप कोई बिजनेस शुरू करने की प्‍लानिंग कर रहे हैं तो टोफू यानी सोया पनीर का प्‍लांट आपके लिए अच्‍छा जरिया हो सकता है। टोफू के इस बिजनेस से न सिर्फ आप रेगुलर कमाई कर सकते हैं बल्कि थोड़ी सी मेहनत और सूझ-बूझ से आप खुद को एक ब्रांड के रूप में भी स्‍थापित कर सकते हैं। लगभग 3 से 4 लाख रुपये के इन्‍वेस्‍टमेंट से कुछ महीनों में ही आप हजारों नहीं बल्कि लाखों रुपये महीने कमा सकते हैं। आइए जानते हैं इस बिजनेस के बारे में।

सिर्फ 3 से 4 लाख में शुरू हो जाएगा काम
-तोफू बनाने के लिए आपको शुरूआत में 3 से 4 लाख रुपए खर्च करने होंगे। इसमें मशीनें और रॉ मटेरियल शामिल है।
-लगभग 2 से 3 लाख रुपए की आपको बॉयलर, जार, सेपरेटर, छोटा फ्रीजर आदि सामान खरीदने होंगे।
-इसके बाद 1 लाख या जरूरत के हिसाब से कितनी भी मात्रा में आपको सोयाबीन खरीदनी होंगी।
-जो तोफू बनाना जानता हो ऐसे कारीगर को भी शुरूआत में आपको हायर करना होगा ताकि आपका माल खराब न हो।

पहले तैयार करना होगा दूध
टोफू बनाना बिल्‍कुल आम दूध के पनीर बनाने जितना ही आसान होता है। बस फर्क इतना है कि इसमें पहले आपको दूध बनाना होता है। इसके लिए पहले सोयाबीन को पीसकर 1:7 के अनुपात में आपको पानी के साथ फेटकर उबालना होता है। बॉयलर और ग्राइंडर में एक घंटे की प्रक्रिया में आपको लगभग 4 से 5 लीटर दूध मिलता है। इसके बाद आप दूध को सेपरेटर में डाला जाता है, इससे दूध दही जैसा गाढ़ा हो जाता है और इससे बचा हुआ पानी निकाला जाता है।

तकरीबन 1 घंटे की प्रक्रिया के बाद आपको लगभग 2.5 से 3 किलोग्राम पनीर प्राप्‍त हो जाता है। टोफू का बाजार में प्राइस 200 से 250 रुपये प्रति किलोग्राम। आपको 1 किलोग्राम सोयाबीन से पूरी प्रक्रिया के बाद लगभग 2.5 किलोग्राम पनीर मिलता है तो जो कि करीब 500 रुपये का होता है। इस तरह आप अगर एक दिन में 10 किलोग्राम पनीर भी बनाते हैं तो इसका बाजार में भाव लगभग 2 हजार रुपए होता है। ऐसे में यदि लेबर, बिजली, आदि के खर्च को अगर 50 फीसदी भी मानते हैं तो आपको इस हिसाब से 30 हजार रुपए की नेट बचत होती है। प्रतिदिन आप अगर 30 से 35 किलोग्राम टोफू बनाकर बाजार में बेचने में कामयाब हो जाते हैं तो आप आराम से 1 लाख रुपये महीना कमा सकते हैं।

सभी जिलों में मिलता है लोन
प्रोजेक्‍ट के लिए यदि आपके पास पूंजी नहीं है तो हर छोटे मंझोले उद्योग की जैसे ही आपको इसके लिए भी लोन मिल सकता है। इसके लिए आपको अपने प्रोजेक्‍ट को जिला उद्योग कार्यालय में प्रस्‍तुत करना होगा। इसके बाद मुनाफे और लागत का आंकलन करके आपको सब्सिडी वाला लोन मिल जाता है। इसके लिए समय-समय पर केंद्र और राज्‍य सरकारों के एसएमई प्रोजेक्‍ट़स के लिए बिना ब्‍याज या कम ब्‍याज वाले लोन में भी शामिल किया जाता है।