क्राइस्टचर्च हमले का बदला लेने के लिए चर्चों पर हुए हमले : श्रीलंका सरकार

कोलंबो (उत्तम हिन्दू न्यूज): श्रीलंका में रविवार को ईस्टर के दिन देश में विभिन्न जगहों पर हुए विस्फोटों में मारे गए लोगों की याद में मंगलवार को देशभर में तीन मिनट का मौन रखा गया। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, देश भर में सेवाएं ठहर गईं, क्योंकि सभी नागरिकों ने सुबह 8.30 बजे से 8.33 बजे तक मौन रखा।



इसी बीच एक शुरुआती जांच में पता चला है कि श्रीलंका में सिलसिलेवार हुए बम धमाके न्यू जीलैंड के क्राइस्टचर्च में हुए हमले का जवाब थे। श्रीलंका के रक्षा राज्य मंत्री ने मंगलवार को यह बयान दिया। रक्षा राज्य मंत्री रुवान विजेवर्देने ने संसद में बताया, 'संसदीय जांच में यह खुलासा हुआ है कि जो (सिलसिलेवार 8 बम धमाके) भी बीते रविवार को श्रीलंका में हुआ, वह क्राइस्टचर्च में मुस्लिमों पर हुए हमले का बदला था। शोक में डूबे श्रीलंका में मंगलवार को ईस्टर के दिन हुए बम विस्फोट में मारे गए लोगों का सामूहिक अंतिम संस्कार किया गया। ईस्टर के दिन तीन श्रीलंकाई शहरों में चचरें और होटलों में सिलसिलेवार विस्फोट हुए, जिसमें 310 लोग मारे गए और 500 से अधिक घायल हो गए।



प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने ट्वीट किया कि श्रीलंका ने निर्दोष लोगों के जान गंवाने पर शोक व्यक्त किया और उन्होंने सैन्य और पुलिस बल, चिकित्सा कर्मियों और उन सभी लोगों को धन्यवाद दिया, जिन्होंने सभी नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए अथक मेहनत की। सरकार ने जनता से अपने घरों और संस्थानों के बाहर एक सफेद झंडा लगाने का अनुरोध किया, क्योंकि देश में राष्ट्रीय शोक मनाया जा रहा है।