निशानेबाजी विश्व कप : 25 मी. रैपिड पिस्टल के लिए ओलंपिक कोटा दांव पर

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): भारत ने पुरुषों की 25 मीटर रैपिड पिस्टल स्पर्धा में अब तक ओलंपिक खेलों का कोटा हासिल नहीं किया है, लेकिन निशानेबाजी विश्व संस्था के मुताबिक जो खिलाड़ी 31 मई तक अच्छी रैंकिंग अंक जुटा लेते है उसे व्यक्तिगत कोटा आवंटित किया जा सकता है। उल्लेखनीय है कि 31 मई तक व्यक्तिगत स्कोर हासिल करने की समयसीमा है।

विश्व के 12वें नंबर के निशानेबाज अनीश भानवाला ने इस स्पर्धा में 2018 गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ गेम्स में सोना जीता था। अनीश को प्रदर्शन के लिहाज से व्यक्तिगत कोटा मिल सकता है। हालांकि, 18 वर्षीय प्रतिभाशाली निशानेबाज, जिन्होंने 2018 और 2019 सीजन में जूनियर विश्व कप में कई पदक जीते हैं, इन दिनों फॉर्म में नहीं है। चौथे राष्ट्रीय चयन ट्रायल्स के अलावा कई अन्य ट्रायल्स में उनका प्रदर्शन संतोषजनक नहीं रहा है।

शुक्रवार को यहां डॉ. कर्णी सिंह शूटिंग रेंज में आयोजित ट्रायल के दूसरे दौर में भानवाला 25 मीटर रैपिड पिस्टल स्पर्धा के फाइनल में पहुंचने में नाकाम रहे। दिल्ली के अर्पित गोयल 30 अंकों के साथ विजेता रहे जबकि आदर्श सिंह ने 29 अंकों के साथ दूसरा और विजयवीर सिद्धू 25 अंकों के साथ तीसरा स्थान पाया। शुक्रवार का परिणाम 18 मार्च से शुरू होने वाले नई दिल्ली विश्व कप में प्रतिस्पर्धा करने वाले शीर्ष तीन निशानेबाजों की संभावनाओं को रोशन करेगा।

जब नेशनल राइफल एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एनआरएआई) की चयन समिति नई दिल्ली विश्व कप के लिए राष्ट्रीय टीम का चयन करेगी तब जनवरी और फरवरी के ट्रायल्स के औसत को ध्यान में रखा जाएगा। घरेलू मैदान पर विश्व कप काफी महत्व रखता है क्योंकि यह निशानेबाजों को मूल्यवान रैंकिंग अंक प्रदान करता है। यह उन्हें अपनी समग्र वैश्विक रैंकिंग में सुधार करने और व्यक्तिगत कोटा स्थानों के लिए योग्य बनाएगा। पुरुषों की 50 मीटर राइफल थ्री पोजिशन में, 2021 ओलंपिक कोटा धारक संजीव राजपूत ने शुक्रवार को राष्ट्रीय चयन ट्रायल के चौथे दौर में जीत दर्ज करके अपना अच्छा प्रदर्शन जारी रखा।