मुलायम के जन्मदिन के बहाने शिवपाल दिखाएंगे अपनी ताकत

इटावा (उत्तम हिन्दू न्यूज): अपने भतीजे और समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव से लंबी अनबन के बाद प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) का गठन करने वाले शिवपाल सिंह यादव बडे भाई एवं सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव के सम्मान में 22 नवम्बर को उनका जन्मदिन मनाकर अपनी ताकत का अहसास कराएंगे। 

प्रसपा महासचिव आदित्य यादव ने शनिवार को यहां बताया कि धर्म निरपेक्षता एवं समाजवाद को सशक्त स्वर देने वाले मुलायम सिंह यादव का 79 वां जन्मदिन पार्टी ‘धर्म निरपेक्षता दिवस’ के रूप में मनाएगी ताकि लोक जीवन में धर्म निरपेक्षता एवं सामाजिक सद्भाव जैसे शाश्वत मूल्यों को ताकत मिले। 

शिवपाल अपने बडे भाई मुलायम सिंह यादव के जन्मदिन के बहाने समाजवादी पार्टी को करारी चोट देने के मूड मे नजर आ रहे है। प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया ने उनका जन्मदिन सैफई मे बडे स्तर पर मनाने का निर्णय लिया है। 

उन्होंने बताया कि चूंकि मुलायम सिंह पहलवान भी रहे है इसलिए उनका पहलवानी से भी खासा रिश्ता है। इसी रिश्ते को ध्यान मे रख कर उनके जन्मदिन पर सैफई के मास्टर चंदगीराम स्टेडियम मे विशाल दंगल का आयोजन किया जा रहा है । इसी समारोह मे दंगल की शुरूआत से पहले केक काटने का भी कार्यक्रम निर्धारित किया गया है। 

आदित्य ने बताया कि दंगल समारोह को भव्यता प्रदान करने के लिए प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के नेता शिवपाल सिंह यादव ने शुक्रवार को अपने पिता के नाम पर स्थापित एसएस मेमौरियल स्कूल परिसर मे एक बैठक ली जिसमे सैफई इलाके के समाजवादी पार्टी से जुडे कई अहम लोगो ने भाग लिया। 

इस बैठक मे शिवपाल सिंह यादव ने सभी से नेता जी के जन्मदिन के मौके पर आयोजित होने वाले दंगल मे बढचढ कर हिस्सेदारी करने के लिए विचार-विमर्श किया। शिवपाल सिंह ने सभी सदस्यों और गैर सदस्यों को अपनी अपनी जिम्मेदारियॉ भी सौपी। सैफई महोत्सव का पांच दिन के आयोजन की बात सामने आई है जिसके बारे मे 22 नवम्बर को खुद शिवपाल सिंह यादव ही ऐलान करेगें। 

नेता जी के जन्मदिन को लेकर सैफई मे तरह तरह की चर्चाए चल निकली है। इससे पहले अखिलेश यादव ने मुख्यमंत्री रहते हुए नेता जी का भव्यतापूर्ण जन्मदिन मनाया था जिसकी चर्चा आज भी होती है। प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया भी अखिलेश के समय मे मनाये गये नेता जी के जन्मदिन को चुनौती देने का मन बनाये हुए है।

Related Stories: