सरकार उद्योगों की बहाली के लिये अपेक्षित सहायता के लिए वचनबद्ध:अरोड़ा

चंडीगढ़ (उत्तम हिन्दू न्यूज)- पंजाब के उद्योग मंत्री सुन्दर शाम अरोड़ा ने कहा कि राज्य सरकार औद्योगिक क्षेत्र को गति देने के लिये कोई कसर बाकी नहीं छोड़ रही। अरोड़ा ने आज यहां कहा कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह के नेतृत्व में उद्योग विभाग मजबूती के साथ काम कर रहा है। विशेष रूप से उन उद्योगों की तरफ ज्यादा ध्यान दिया जा रहा है, जो महामारी के कारण जूझ रहे हैं। ऐसे उद्योगों में विश्वास कायम करने के लिए काम जारी है। कोविड के कारण विश्व स्तर पर पैदा हुई स्थिति को लेकर उन्होंने कहा कि पंजाब किसी भी तरह की कसर बाकी नहीं छोड़ रहा। उन्होंने उद्योग को सरकारी पक्ष से हर तरह की अपेक्षित सहायता का भरोसा देते हुए कहा कि हम उद्योगों की मुश्किलों से पूरी तरह अवगत हैं और इस मुश्किल पड़ाव से बाहर का रास्ता ढूँढने के लिए सभी संबंधित पक्षों के साथ विचार-विमर्श के लिए तेजी से काम कर रहे हैं।


इस बहाली की निगरानी के लिए प्रसिद्ध अर्थ शास्त्री, योजना आयोग के पूर्व डिप्टी चेयरमैन स. मौनटेक सिंह आहलूवालिया की अध्यक्षता में कैप्टन अमरिन्दर सिंह पहले ही माहिरों की एक समिति गठित कर चुके हैं। समिति में आर्थिक और उद्योग के अगुआ माहिर शामिल हैं जो राज्यय सरकार को आर्थिकता की बहाली सम्बन्धित अल्पकालिक और दीर्घकालिक कार्य योजनाओं बारे सलाह देंगे। पूर्व प्रधान मंत्री मनमोहन सिंह भी आर्थिकता को बहाल करने में राज्य की सहायता करने के लिए सहमत हुए हैं।


कोविड के कारण पैदा हुई चुनौतियों पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि चीन से कच्चे माल की स्पलाई में देरी होने से बड़ी संख्या में निर्माण क्षेत्रों को प्रभावित किया है। उन्होंने कहा कि कच्चा माल उत्पादन और उद्योगों को चलाने का स्रोत है। उन्होंने कहा कि आटोमोबाइल, फार्मास्यूटीकल, इलैक्ट्रॉनिक्स, रासायनिक उत्पादों आदि के सैक्टर आदि बड़े स्तर पर प्रभावित हुए हैं। अरोड़ा ने उद्योगों की सराहना करते हुए कहा कि जब देश वासियों को कोविड से बचाव के लिए एन-95 और एन-99 मास्क और निजी सुरक्षा उपकरणों (पी.पी.ई.) की भारी कमी का सामना करना पड़ा, तो पंजाब के उद्योगों, विशेष तौर पर टेक्स्टाईल उद्योग ने महामारी के दौरान समय की जरूरत के अनुसार मास्क और पी.पी.ई. किटें तैयार करने का विलक्षण कार्य किया।