अलगाववादियों पर शिकंजा, श्रीनगर में मीरवाइज नजरबंद

श्रीनगर (उत्तम हिन्दू न्यूज)- हुर्रियत कान्फ्रेंस के उदारवादी धड़े के अध्यक्ष (एचसी)  मीरवाइज मौलवी उमर फारूक को मीरवाइज मौलवी मुहम्मद फारूक और अब्दुल गनी लोन की बरसी पर ऐतिहासिक जामा मस्जिद से ईदगाह के कब्रगाह तक की यात्रा का नेतृत्व करने से रोकने के लिए उन्हें नजरबंद कर दिया गया है। 

एचसी के एक प्रवक्ता ने कहा, “मीरवाइज के घर के बाहर सोमवार शाम बड़ी संख्या में राज्य के पुलिस कर्मी तैनात किये गये हैं।” प्रवक्ता ने कहा कि मीरवाइज को आदेश दिया गया है कि वह अगले आदेश तक अपने घर से नहीं निकल सकते। उन्होंने कहा कि मीरवाइज को नजरबंद इसलिए किया गया है ताकि उन्हें जामा मस्जिद से ईदगाह के कब्रगाह तक एक यात्रा का नेतृत्व करने से रोका जा सके। ईदगाह के कब्रगाह में उनके पिता मीरवाइज मुहम्मद फारूक दफन हैं। 

मीरवाइज उमर ने ट्विटर पर लिखा,“ हम उनकी बरसी पर उनके दिखाए रास्तों पर चलने का संकल्प दोहराएंगे। उन्होंने अपना पूरा जीवन कश्मीर मुद्दे और भारत-पाकिस्तान की समस्या का शांतिपूर्ण समाधान करने में लगा दिया।” मीरवाइज मुहम्मद फारूक की 1990 में उनके घर में अज्ञात बंदूकधारियों ने गोली मार कर हत्या कर दी थी जबकि अब्दुल गनी लोन की 2002 में हत्या कर दी गयी थी।