होनहार बेटियों को एसडीएम का सलाम

धर्मशाला (विजयेन्दर शर्मा): एसडीएम देहरा धनबीर ठाकुर +2 की बोर्ड परीक्षा में मेरिट में आई देहरा उपमंडल की होनहार बेटियों को बधाई देने उनके घर पहुंचे। हि.प्र. स्कूल शिक्षा बोर्ड द्वारा वीरवार को घोषित +2 के परिणामों में देहरा उपमंडल के जस्वां प्रागपुर क्षेत्र की दो बेटियों ने मेरिट में स्थान हासिल किया है। इन परिणामों में राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला (छात्र) प्रागपुर की तनिशा ने विज्ञान विषय 500 में से 495 अंक लेकर प्रदेश में तीसरा स्थान प्राप्त किया है। वहीं राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला बढ़ल ठोर की कामिनी पठानिया ने कॉमर्स विषय में 500 में से 479 अंक प्राप्त कर प्रदेश में सातवां स्थान हासिल किया है। एसडीएम देहरा धनबीर ठाकुर ने दोनो बेटियों के घर जाकर उन्हें उनकी उपलब्धि के लिए पुरस्कृत किया और भविषय के लिए शुभकामनाएं दी।

इस अवसर पर एसडीएम ने तनिशा और कामिनी से बात चीत करते हुए उनके परिश्रम और भविषय की योजनाओं के बारे में जाना। एसडीएम ने दोनो बेटियों से अपने सुझाव साझा करते हुए उनके करियर से संबंधित परामर्श किया और उन्हें भविष्य में ऐसे ही परिक्षम करते रहने की सलाह दी। इस अवसर पर एसडीएम ने कहा कि बेटियां जब आगे बढ़ती हैं, तो पूरा परिवार और समाज आगे बढ़ता है।  इसलिए यह हम सब की जिम्मेवारी है कि बेटियों के आगे बढऩे की राह में काई रुकावट न आए। उन्होंने कहा कि बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत सरकार और प्रशासन का उद्देश्य ही बेटियों को आगे बढ़ाना है। उन्होंने कहा कि यह बहुत हर्ष का विषय है कि इन दोनों बच्चियों ने अपनी महनत से प्रदेश में देहरा उपमंडल का नाम रोशन किया है। उन्होंने कहा कि इनकी सफलता से क्षेत्र के अन्य छात्र भी प्ररित होकर सकारात्मक दिशा में आगे बढ़ेंगे।

धनबीर ठाकुर ने कहा कि इन दोनों बच्चियों की महनत और शिक्षकों एवं परिवार के सहयोग से आज इन्होंने यह स्थान हासिल किया है, इसके लिए इन बच्चियों के स्कूल, शिक्षक और परिवार वाले भी बधाई के पात्र हैं। इस अवसर पर तनिशा और कामिनी ने भी अपनी सफलता का श्रेय अपने शिक्षकों और माता पिता को देते हुए उनके प्रति कृतज्ञता का भाव प्रकट किया। उन्होंने कहा कि वह आज बहुत प्रसन्न हैं कि एसडीएस सर स्वयं बधाई देने उनके घर आए, जिससे उनका मनोबल कईं गुणा अधिक बड़ गया है। इस अवसर पर तनिशा ने बताया कि वह विज्ञान विषय में ही आगे बढक़र तकनीकी और सुचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में इंजीनियरिंग करना चाहती हैं और वहीं कामिनी पठानिया अध्यापिका बनकर देश के लिए होनहार विद्यार्थी तैयार करना चाहती हैं।