सत्ती माफी मांगे वर्ना कांग्रेस करेगी घेराव : सुक्खू

ऊना (ममता भनोट): हिमाचल प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व अध्यक्ष एवं नादौन के विधायक सुखविंदर सिंह सुक्खू ने प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती द्वारा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी व धार्मिक संस्था डेरा राधास्वामी पर की गई टिप्पणियों की कड़ी निंदा की है। उन्होंने कहा कि प्रदेश भाजपा अध्यक्ष की इन टिप्पणियों से कांग्रेस कार्यकर्ता आहत हुआ है। सोमवार को ऊना में पत्रकार वार्ता के दौरान कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुखविंदर सिंह सुक्खू ने कहा कि राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी के प्रति जिन अभद्र शब्दों का प्रयोग गाली के रूप में भाजपा के राज्य अध्यक्ष द्वारा किया गया है, उसे कभी भी सहन नहीं किया जा सकता। इससे साफ है कि भाजपा के राज्य अध्यक्ष जब से चुनाव हारे हैं मानसिक संतुलन खो बैठे हैं, इसलिए कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष के प्रति इस प्रकार की भाषा का प्रयोग कर रहे हैं।

सुक्खू ने कहा कि भाजपा अध्यक्ष को अपने शब्दों के लिए माफी मांगनी चाहिए और यदि ऐसा नहीं होता है तो कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता भाजपा अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती का घेराव करेंगे। लोकतांत्रिक व्यवस्था के तहत अपने रोष प्रदर्शन को दिखाने में पीछे नहीं हटेंगे। भाजपा के अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती ने देश की प्रसिद्ध धार्मिक संस्था राधास्वामी पर जो टिप्पणी की है कि चुनावों के समय में उनके अनुयाई भी कुछ मांगते हैं, यह भी पूरी तरह से गलत व मर्यादित है।

 उन्होंने कहा कि राधा स्वामी संस्था सामाजिक कार्यों में जुटी है। युवा वर्ग को नशे से दूर रखने के लिए प्रेरित कर रही है, धर्म के साथ लोगों को जोडऩे का काम कर रही है और इस संस्था के प्रति पूरा मान-सम्मान व आदर है। ऐसे में भाजपा के अध्यक्ष द्वारा की गई टिप्पणी गलत है।

चौकीदार चोर मर्यादित नहीं प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुखविंदर सिंह सुक्खू से जब पूछा गया कि भाजपा के राज्य अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती ने कहा है कि कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी चौकीदार चोर शब्द का इस्तेमाल कर देश के ईमानदार प्रधानमंत्री प्रश्न उठा रहे हैं, इस पर सुखविंदर सिंह सुक्खू ने कहा कि चौकीदार चोर है यह एक सामान्य भाषा का शब्द है, इससे व्यवस्था पर प्रश्न उठाया जा रहा है, राफेल पर प्रधानमंत्री तथ्यों को छुपा रहे हैं, इसलिए यह बात की जा रही है, लेकिन चौकीदार चोर है शब्द न तो गाली है न अमर्यादित है न ही अभद्र है।