रूस और भारत रक्षा उद्योग सहयोग पर करेंगे काम, 2030 तक का प्लान तैयार

मॉस्को (उत्तम हिन्दू न्यूज): भारत और रूस की सेना तकनीकी सहयोग बढ़ाने पर काम करने जा रही है। रूस के उप प्रधानमंत्री यूरी बोरिसोव ने कहा कि भारत और रूस रक्षा उद्योग सहयोग के एक कार्यक्रम का समन्वय करने पर काम रहे हैं और इसे वर्ष 2030 तक पूरा किया जाएगा।

बोरिसोव ने बुधवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के साथ यहां मुलाकात के बाद कहा, “ भारत रूसी हथियारों के सबसे बड़े खरीदारों में से एक है। वर्ष 2030 तक रूस और भारतीय सैन्य-तकनीकी सहयोग के एक कार्यक्रम को समन्वित करने के लिए काम चल रहा है।” सिंह दरअसल रक्षा मंत्री बनने के बाद रूस की पहली यात्रा पर है।

सेना में तकनीकी सहयोग बढ़ाएंगे भारत और रूस, 2030 तक का प्लान तैयार

रूस सरकार की वेबसाइट पर जारी एक बयान के अनुसार बोरिसोव ने यह भी कहा कि अंतर्राष्ट्रीय दबाव के बावजूद रूस और भारत ने सफलतापूर्वक रक्षा क्षेत्र में एक दूसरे का सहयोग किया है। विशेष रूप से भारत को एस -400 हवाई रक्षा मिसाइल प्रणाली देने पर।

भारत और रूस ने दरअसल अक्टूबर 2018 में भारत को पांच अरब डॉलर वाली एस -400 हवाई रक्षा मिसाइल प्रणाली देने पर हस्ताक्षर किये थे।