इंसानों की तरह ‘डू यू लव मी’ गाने पर थिरके रोबोट्स, ऐसा डांस देख कर सब हुए हैरान- देखें ये मजेदार VIDEO

वाल्थम (उत्तम हिन्दू न्यूज): आप सभी ने बचपन में रोबोट के खिलौने तो देखें ही होंगे, लेकिन क्या उस वक्त आपने कभी सोचा था कि ये रोबोट आगे जाकर इंसान की जिंदगी का एक अहम हिस्सा बन जाएंगे। रोबोटिक्स को नए जमाने के भविष्य के तौर पर देखा जा रहा है। ना सिर्फ कई क्षेत्र में कामकाज रोबोटिक्स आधारित होता जा रहा है बल्कि आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस को लेकर लगातार काम किया जा रहा है। इसी क्षेत्र में एक ऐसा वीडियो सामने आया जो न सिर्फ लोगों को हैरान कर रहा है बल्कि इसमें रोबोट्स और इंसानों में फर्क करना मुश्किल हो रहा है।

Robots performed a spectacular dance, watch this unique video of the new year greetings

हाल ही में रोबोट्स के डांस का एक वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। इस वीडियो में रोबोट्स न सिर्फ शानदार डांस कर रहे हैं बल्कि मूव्स को देखकर ये एकदम प्रोफेशनल्स को भी मात देता दिख रहा है। इस वीडियो को देखने वाले हर शख्स के मन में एक ही सवाल है कि आखिर एक रोबोट इंसानों से भी अच्छा डांस कैसे कर पा रहा है।

इंसानों की तरह म्यूजिक की धुन पर नृत्य करने वाला डांसिंग रोबोट दुनियाभर में चर्चा का केंद्र बन गया है। रोबोट को डांस सिखाने (कोरियोग्राफी) के लिए इंजीनियरों को डेढ़ साल का वक्त लगा है। अब दो दिन में रोबोट के तीन मिनट का थिरकने वाला वीडियो तैयार हुआ है जो 1962 के गाने ‘डू यू लव मी’ पर थिरकता नजर आ रहा है। सोशल मीडिया पर डांसिंग रोबोट का वीडियो अब तक 2.3 करोड़ लोग देख चुके हैं।

रोबोट निर्माता बोस्टन डायनेमिक्स के ह्यूमनाइड एटलस रिसर्च के रोबोट सिर्फ थिरकते ही नहीं है। इनको आलू को मसलते हुए देखने के साथ गोदाम से सामान उठाने और ट्रक में उसे लादते हुए भी देखा जा सकता है। कंपनी के संस्थापक मार्क रेबर्ट का कहना है कि रोबोट बनाने वाले लोग कितना कुछ सीख सकते हैं ये बहुत अहम होता है। वे कहते हैं कि रोबोट को तैयार करने के बीच उसमें बदलाव करना, उसे मजबूत बनाना और उसमें कुछ अलग करना उसके निर्माण प्रक्रिया का सबसे अहम हिस्सा होता है जिससे उसकी काम करने की क्षमता बढ़ती है। यही रोबोट डिजाइनिंग का अहम हिस्सा है जिसके लिए इंजीनियर कड़ी मेहनत करते हैं।

डांसिंग रोबोट के लिए इंजीनियरों ने 28 एक्टुएटर्स डिवाइस का इस्तेमाल किया है जो मांसपेशी की तरह काम करती है। ये डिवाइस इलेक्ट्रॉनिक सिग्नल को गतिशीलता प्रदान करती है और जायरोस्कोप से उसमें संतुलन बनता है। इसके साथ ही तीन क्वाडकोर ऑनबोर्ड कंप्यूटर की मदद से सिग्नल के जरिए डांस के दौरान उसके मूवमेंट पर नियंत्रण रखा जाता है।

मार्क का कहना है कि रोबोट को सिखाना या प्रशिक्षण देना सबसे बड़ी चुनौती होती है। अगर बात डांस की हो तो ये और कठिन है क्योंकि इसमें संतुलन की अहम भूमिका होती है। बोस्टन डायनेमिक्स के इंजीनियरों ने ऐसी तकनीक विकसित की जिससे रोबोट डांस के दौरान उछलने-कूदने के बीच संतुलन बनाकर रख पाते हैं और नुकसान से बचा जाता है।

रोबोट को डांस करते हुए देख लोग हैरान रह गए। कुछ लोगों ने तो ये तो कमेंट किया कि उन्हें अपनी आंखों पर विश्वास नहीं हो रहा है। वहीं कुछ लोगों ने इसे बनाने वाले लोगों के लिए ताली बजाकर उनका उत्साह बढ़ाया। कुछ लोगों ने तो ये तक कह दिया कि ये कंप्यूटर निर्मित चित्र है जबकि ऐसा बिलकुल नहीं था, ये रोबोट हैं जो धुन पर इंसानों की तरह थिरकते हैं।