किसान संगठनों के प्रतिनिधयों का कैप्टन से आह्वान, विधानसभा का विशेष सत्र बुलाओ

चंडीगढ़ (उत्तम हिन्दू न्यूज)- कृषि कानून की विरोधता को लेकर पंजाब भवन में मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आज किसान संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक की। कुल 31 किसान संगठनों के प्रतिनिधि बैठक में शामिल हुए। बैठक में पंजाब कांग्रेस प्रधान सुनील जाखड़, पंजाब मामलों के इंचार्ज हरीश रावत समेत सीनियर कांग्रेस नेतृत्व उपस्थित थे। किसान संगठनों के नेताओं ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर से  कहा कि पंजाब विधानसभा का जल्द विशेष सत्र बुलाया जाए। यह सत्र उन तीन कृषि कानूनों के खिलाफ होना चाहिए जो केंद्र सरकार ने पारित किए हैं। बैठक में किसान संगठनों के प्रतिनिधियों ने दो टूक कहा कि कृषि विरोधी कानूनों को लेकर उनका रुख स्पष्ट है। 



दरअसल लुधियाना में कल 13 किसान संगठनों की बैठक के दौरान मंगलवार को चंडीगढ़ में होने वाली मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ बैठक को लेकर विचार किया गया था। कल की बैठक में किसान नेताओं ने कहा कि केंद्र का कानून किसानों के विरुद्ध है, जिसके खिलाफ संघर्ष जारी रखा जाएगा। किसानों ने ऐलान किया हुआ है कि 1 अक्टूबर को ट्रेन रोकने संबंधी एलान पर कायम है।

 

अमृतसर के देवीदासपुरा गांव के पास किसान मजदूर संघर्ष समिति के सदस्‍य 26 सितंबर से रेल ट्रैक पर धरना दे रहे हैं। मंगलवार को उनके रेल ट्रैक पर मोर्चा संभाले हुए छह दिन हाे गया। किसान मजदूर संघर्ष समिति के महासचिव ने कहा कि 1 अक्‍टूबर को देशभर में आंदोलन करेंगे। देवीदासपुरा गांव में रेल रोको आंदोलन के छठे दिन किसान काले कपड़े पहनकर रेल ट्रैक पर बैठे।