भूमि पूजन से पहले शुरू हुई रामार्चा पूजा, पावन सरयू तट पर आज दिवाली मनाने की तैयारी

अयोध्या (उत्तम हिन्दू न्यूज): अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए 'भूमि पूजन' से एक दिन पहले मंगलवार सुबह को 'रामार्चा' पूजा शुरू हुई। रामार्चा पूजा जिसमें राम कथा और राम धुन का पाठ शामिल है, की अगुवाई वाराणसी और अयोध्या के 11 पुजारी कर रहे हैं। राम जन्मभूमि परिसर में छह से सात घंटे तक पूजा जारी रहेगी। हनुमान गढ़ी मंदिर में भगवान हनुमान के 'पताका' (ध्वज) की विशेष पूजा भी की जा रही है। पूरा राम जन्मभूमि क्षेत्र पीले गेंदे के फूलों से सजा हुआ है।
6 Priests To Perform Ramarcha Pooja In Ayodhya Today | Anchor's Choice  (04.08.2020) | अयोध्या में 6 ...

ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास के उत्तराधिकारी महंत कमल नयन दास ने कहा, "पीला एक शुभ रंग है। हिंदू परंपरा में, पीले रंग का उपयोग सभी समारोहों में किया जाता है। यह पवित्रता और प्रकाश का प्रतीक है।" उन्होंने कहा कि विभिन्न मंदिरों में होने रहे विभिन्न अनुष्ठानों का समापन बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 'भूमिपूजन' करने के साथ होगा।
Ayodhya Ramarcha Puja Begins Ram Temple Foundation Laying Ceremony - अयोध्या  में रामार्चा पूजा ...

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के मंगलवार शाम तक अयोध्या पहुंचने की उम्मीद है। वह उन पांच अतिथियों में शामिल होंगे जिन्हें बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मंच पर बैठाया जाएगा। मंच पर मौजूद होने वाले अन्य अतिथियों में उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और मंदिर के निर्माण की देखरेख करने वाले श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास होंगे।

भगवान राम मंदिर के भूमि पूजन की खुशी में अयोध्या में चार व पांच अगस्त को दीवाली मनाई जाएगी। घर-घर रामायण व सुंदरकांड का पाठ किया जाएगा। नगर में हर तरफ चहल-पहल व हर्षोल्लास नजर आ रहा है। आज शाम सरयू के तट पर  दिवाली मानने की तैयारी की जा रही है।