राजस्थान : रानी को अपने घर में ही मात देने के लिए मानवेन्द्र उतरे मैदान में 

जयपुर (उत्तम हिन्दू न्यूज) : राजस्थान में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को मात देकर सत्ता में वापसी के लिए कांग्रेस ने मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया को उनके घर में ही घेरने की योजना बनाई है। लिहाजा कांग्रेस ने बीजेपी के पूर्व वरिष्ठ नेता और अटल सरकार में मंत्री रहे जसवंत सिंह के बेटे मानवेंद्र सिंह को झालरापाटन से चुनाव मैदान में उतार दिया है। कांग्रेस के इस चाल से अब इस सीट पर लड़ाई बेहद महत्वपूर्ण हो गया है। 

कांग्रेस ने शनिवार को राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए 32 उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट जारी की। इससे पहले 152 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट आई थी। इस लिस्ट में पार्टी के अधिकांश विधायकों और बड़े नेताओं के परिवार वालों को टिकट दिया गया। 

आपको बता दें कि बीजेपी संस्थापक सदस्य के रूप में जसवंत सिंह की बाड़मेर इलाके में एक पहचान रही है। मगर उनके बेटे मानवेंद्र सिंह के कांग्रेस ज्वॉइन करने के बाद बाड़मेर की राजनीतिक परिस्थितियां बदल गईं। मानवेंद्र सिंह, बाड़मेर के शिव विधानसभा क्षेत्र से बीजेपी विधायक थे। पिछले महीने 17 अक्टूबर को उन्होंने राहुल गांधी से मुलाकात के बाद कांग्रेस ज्वाइन कर लिया था।

बीजेपी का दामन छोडऩे वाले शिव सीट से विधायक मानवेंद्र सिंह पूर्व में बाड़मेर-जैसलमेर लोकसभा क्षेत्र से सांसद रह चुके हैं। 2004 के लोकसभा चुनाव में मानवेंद्र सिंह के नाम सबसे ज्यादा मतों से जीतने का रिकॉर्ड है। सिंह ने उस समय 2,72000 से भी अधिक मतों से जीत दर्ज की थी।

मानवेंद्र सिंह राजनीति के अलावा खेल और पत्रकारिता से भी जुड़े हैं। वे आज भी अंग्रेजी अखबारों के लिए लिखते हैं। वे वर्तमान में राजस्थान फुटबाल संघ के प्रदेशाध्यक्ष होने के साथ ही राष्ट्रीय स्तर पर भी फुटबॉल संघ के उपाध्यक्ष हैं। प्रारंभिक पढ़ाई अपने गांव जसोल में करने वाले सिंह ने आगे की पढ़ाई अजमेर के मेयो कॉलेज और फिर लंदन में की है।
 

Related Stories: