चार साल में बदली रेलवे की सूरत और सीरत : मोदी

वाराणसी (उत्तम हिन्दू न्यूज): रेलवे की सूरत और सीरत बदलने का संकल्प दोहराते हुये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को यहां कहा कि वंदे भारत एक्सप्रेस इस कड़ी में एक बड़ी उपलब्धि है। नकारात्मक प्रवृत्ति के कुछ लोग इस ट्रेन का मखौल उड़ा रहे हैं जिनसे सावधान रहने की जरूरत है। अपने संसदीय क्षेत्र में 3300 करोड़ रुपये की परियोजनाओं के शिलान्यास और लोकार्पण के अवसर पर मोदी ने कहा कि भारतीय रेलवे ने पिछले चार सालों में तेजी से तरक्की की है। विश्व स्तर की वंदे भारत एक्सप्रेस इसका ज्वलंत प्रमाण है। कुछ लोगों ने इस ट्रेन का मजाक बनाया, ऐसे लोगों से सतर्क रहने की जरूरत है। ऐसे दौर में जब अभियंता राष्ट्र निर्माण में जी जान से जुटे हैं तो नकारात्मकता से घिरे इन लोगों से निराश होने की जरूरत नहीं है।

उन्होंने कहा कि काशी में ऐसे इंजन को हरी झंडी दिखाने का मौका मिला जो डीजल से चलता था लेकिन अब बिजली से चलेगा। इस नये इंजन की ताकत भी डबल हो जाएगी। यह काम डीजल रेल कारखाना (डीरेका) में पहली बार हुआ है। पूरी दुनिया में ऐसा प्रयोग पहली बार हुआ जिसने भारतीय इंजीनियरिंग का लोहा मनवाया है।

प्रधानमंत्री ने कहा, “मैं इंजीनियरों, टेक्निशियनों की मेहनत को नमन करता हूं। कल आप भारत में बुलेट ट्रेन बनाएंगे। आपके परिश्रम का परिणाम है कि रेल पटरियों को बिछाने और दोहरीकरण का काम दोगुनी गति से हो रहा है। प्रयागराज और काशी के बीच भी काम पूरा हुआ है। मंडुवाडीह, लोहता भदोही और भदोही जंघई का दोहरीकरण हुआ है। स्टेशन पर भी विकास आप अनुभव कर रहे हैं।” उन्होंने कहा कि पूर्वांचल में कैंसर के मरीजों को उपयुक्त इलाज के लिए दूसरे शहरों में जाना होता था लेकिन आज के बाद पूर्वी उत्तर प्रदेश के मरीजों को बीएचयू और लहरातारा में बने अस्पतालों में इस बीमारी का इलाज मिल सकेगा।

पर्यटन से लेकर तमाम सुविधाएं बनारस की तस्वीर बदलने वाली है। गंगा में और गंदगी नहीं जाएगी। मां गंगा को निर्मल बनाने के लिए आप सभी ने जो प्रयास किए हैं उसकी प्रशंसा दुनिया कर रही है। काशी स्मार्ट बनेगी और परंपरा कायम भी रखेगी। इससे पहले डीरेका पहुंचे मोदी ने डीरेका कार्यशाला का निरीक्षण कर 10000 हार्सपावर के परिवर्तित लोकोमोटिव को हरी झंडी दिखाई। यहां उनके साथ राज्यपाल रामनाईक और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी थे।

उन्होंने कहा कि एक तरफ जनता का पैसा लूटने वालों को सजा दी जा रही है और दूसरी तरफ ईमानदारी से जीने वालों को सम्मानित भी किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि गरीब परिवारों को मुफ्त में बिजली का कनेक्शन, मुफ्त में गैस कनेक्शन, पांच लाख रुपये तक का मुफ्त इलाज, किसानों के लिए सिंचाई व्यवस्था और 6,000 रुपये वार्षिक अनुदान के साथ ही अन्य कई ऐसी योजनाएं शुरू की गई हैं, जो वंचित वर्ग को ऊपर उठाने के लिए हैं।
 

Related Stories: