पांच करोड़ परिवारों की महिला के खाते में हर माह छह हजार रुपए : राहुल गांधी

डूंगरपुर (उत्तम हिन्दू न्यूज): कांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर पन्द्रह लाख रुपए लोगों के बैंक खाते में डालने, दो करोड़ लोगों को रोजगार देने का झूठा वादा करने का आरोप लगाते हुए कहा है कि कांग्रेस सरकार बनी तो गरीबी के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक कर पांच करोड़ परिवारों की महिला के बैंक खाते में हर महीने छह हजार रुपए डाले जायेंगे।

गांधी ने आज डूंगरपुर जिले के बेणेश्वर में एक जन सभा में प्रधानमंत्री पर दो करोड़ युवाओं को रोजगार देने का झूठा वादा करने का आरोप लगाते हुए कहा कि मोदी सरकार ने एक भी युवा को नौकरी नहीं दी, जबकि बाईस लाख सरकारी नौकरियां भरी जा सकती थी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार आने पर एक वर्ष में 22 लाख नौकरियों की भर्ती करने के साथ दस लाख लोगों को पंचायत में रोजगार दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि केन्द्र में मोदी सरकार ने झूठे वादे करने के साथ आदिवासियों गरीबों का हक छीन लिया तथा मनरेगा योजना को धीमा कर दिया लेकिन कांग्रेस सरकार आने पर सौ दिन के बजाय 150 दिन का रोजगार मिलेगा। उन्होंने मोदी सरकार पर पिछले पांच वर्ष में आदिवासियों के साथ अन्याय करने का आरोप लगाते हुए कहा कि अगली सरकार में उनके साथ न्याय होगा तथा जल जमीन और स्वाभिमान की रक्षा की जायेगी। 

उन्होंने गरीबों के खाते में रुपए डालने की अर्थव्यवस्था समझाते हुए कहा कि यह पैसा अम्बानी की जैब से निकालकर गरीबों की जेब में डाला जायेगा। उन्होंने कहा कि कर्ज नहीं चुकाने पर किसानों को जेल नहीं जाना पड़ेगा तथा युवाओं को उद्योग स्थापित करने के लिए तीन वर्ष तक सरकार की इजाजत नहीं लेनी पड़ेगी। 

श्री गांधी ने किसानों की कर्ज माफी के मामले में भी मोदी पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस सरकार आने पर देश में एक राष्ट्रीय और एक किसानों के लिए बजट बनाया जायेगा। उन्होंने कहा कि वर्ष की शुरुआत में ही किसानों को यह पता चल जायेगा कि उनकी फसल का समर्थन मूल्य क्या होगा तथा कितना मुआवजा और कितना कर्ज माफ हो सकता है। उन्होंने रफाल सौदे में भ्रष्टाचार की बात दोहराते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हिन्दुस्तान एयरोनोटिक्स कंपनी से छीनकर यह सौदा चोर अनिल अम्बानी को दे दिया जिसमें 526 करोड़ की बजाय सोलह सौ करोड़ रुपए देने पड़े। 
 

Related Stories: