राहुल गांधी का मोदी पर हमला, कहा-हिम्मत है तो किसी यूनिवर्सिटी में बिना पुलिस के जाएं

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज)-कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर आर्थिक मोर्चे पर विफल रहने का आरोप लगाते हुए सोमवार को कहा कि सरकार को युवाओं की आवाज को दबाना नहीं बल्कि सुनना चाहिए। गांधी ने संसद भवन एनैक्सी में विपक्षी दलों की बैठक के बाद संवाददाताओें से कहा कि देश की आर्थिक स्थिति, बेरोजगारी और युवाओं के आक्रोष पर मुख्य रुप से चर्चा की गयी। उन्होंने सरकार पर विफल होने का आरोप लगाते हुए कहा कि छात्रों , युवाओं और किसानों में गुस्सा बढ़ता जा रहा है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी इन समस्याओं से निपटने की बजाय देश का ध्यान बांटने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जनता समझती है कि श्री मोदी आर्थिक मोर्चे, रोजगार, युवाओं का भविष्य सुरक्षित करने में असफल हो गए हैं ऐसे में युवाओं की आवाज उठना जायज है। इसे दबाया नहीं जाना चाहिए बल्कि सरकार को इसे सुनना चाहिए। पार्टी के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि पिछले छह साल से खराब आर्थिक स्थिति, महंगाई, बेरोजगारी और किसानों की दशा की तरफ केन्द्र सरकार का कोई ध्यान नहीं है। ये तमाम बातें सरकार की प्राथमिकता में नहीं आती हैं। इससे ध्यान हटाने के लिए देश को धर्म के आधार पर बांटा जा रहा है। विवादित मुद्दे ला रहे हैं जिससे लोग आपस में ही झगड़ते- लड़ते रहें। 


विपक्षी दलों की बैठक में द्रमुक समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और तृणमूल कांग्रेस के नहीं आने पर श्री आजाद ने कहा कि एनआरसी, एनपीआर और सीएए के मुद्दे पर ये पार्टियां भी कांग्रेस के साथ हैं। बैठक में शामिल होने या नहीं होने कोई अंतर नहीं पड़ता।