पंजाब सरकार किसानों के मुद्दे पर गंभीरता नहीं दिखा रही : मनीष सिसोदिया 

-दिल्ली का अरविंद केजरीवाल मॉडल पंजाब में लागू करने के लिए राज्य के लोग दें 'आपÓ को मौका
अमृतसर (दीपक मेहरा) :
आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता और दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया शुक्रवार को अमृतसर पहुंचे। यहां उन्होंने सबसे पहले श्री हरमिंदर साहिब के दर्शन किए और माथा टेका।

इस मौके पर उनके साथ आप के पंजाब प्रभारी जरनैल सिंह भी उपस्थित थे। मीडीया को संबोधित करते हुए सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली में अरविंद केजरीवाल की सरकार ने जो विकास का कार्य किया है, वैसा कांग्रेस और बीजेपी कभी कल्पना भी नहीं कर सकती। आज दिल्ली में लोगों को सरकारी अस्पतालों में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं और निजी स्कूलों की तुलना में सरकारी स्कूलों में बेहतर शिक्षा प्रदान की जा रही है।

केजरीवाल सरकार दिल्ली के लोगों को 24 घंटे मुफ्त बिजली और पानी दे रही है। उन्होंने पंजाब के लोगों से अपील करते हुए कहा कि दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार का मॉडल पंजाब में लागू करने के लिए राज्य के लोग एक बार आम आदमी पार्टी को मौका दें। उन्होंने कहा कि पंजाब में आम आदमी पार्टी की सरकार बनने पर यहां भी दिल्ली की केजरीवाल सरकार का विकास मॉडल लागू किया जाएगा और लोगों को बेहतर सरकारी सुविधाएं प्रदान की जाएगी।

आज देश में दो तरह की राजनीति चल रही है, एक कांग्रेस, भाजपा और अकाली दल की राजनीति है, जो अपना सत्ता में आकर जनता के पैसे से अपना कारोबार चला रही है और जनता के टैक्स के पैसे से अपना घर भर रही थी। दूसरा, अरविंद केजरीवाल की राजनीति है जो लोगों के टैक्स के पैसे का इस्तेमाल लोगों को अच्छी शिक्षा और स्वास्थ सुविधाएं देने पर करती है एवं उसी टैक्स के पैसे से दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार दिल्ली के लोगों को मुफ्त में बिजली और पानी दे रही है और महिलाओं को मुफ्त में डीटीसी के बस में सफर करवा रही है। आज दिल्ली के सरकारी स्कूलों में नई टैक्नॉलजी के माध्यम से छात्रों को पढ़ाया जा रहा है और दिल्ली के सरकारी अस्पताल हर तरह की आधुनिक सुविधाओं से लैस है। उन्होंने पंजाब के लोगों को भरोसा दिलाते हुए कहा, अगर एक बार लोगों ने अरविंद केजरीवाल की राजनीति को मौका दे दिया तो वे कांग्रेस, भाजपा और अकाली दल सब को भूल जाएंगे। 
एक के सवाल का जवाब देते हुए सिसोदिया ने कहा कि पिछले कई महीनों से देश का अन्नदाता सड़क पर केन्द्र के काले कानूनों के खिलाफ संघर्ष कर रहे हैं लेकिन केन्द्र में बैठी मोदी सरकार उनकी समस्याओं को गंभीरतापूर्वक नहीं ले रही है। कैप्टन सरकार पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार भी किसानों के मुद्दे पर गंभीरता नहीं दिखा रही है। जब भी केंद्र सरकार बात करती है, पंजाब सरकार के मंत्री केवल अपने फायदे की बात कर वापस आ जाते हैं। केंद्र सरकार ने कुछ कॉरपोरेट घरानों के लाभ के लिए काले कृषि कानूनों को बनाई हैं। मोदी सरकार केवल कॉरपोरेट घरानों के लिए काम कर रही है। नरेंद्र मोदी को किसानों की दुर्दशा की कोई चिंता नहीं है।