पंजाब सरकार ने गेहूं और धान की फसल छोड़ बाकी 21 फसलों से लूट करने की दी छूट

-किसान मजदूर संघर्ष कमेटी का रेल रोको आंदोलन 28वें दिन में दाखिल
जंडियाला गुरु (उत्तम हिन्दू न्यूज):
किसान मजदूर संघर्ष कमेटी पंजाब का रेल रोको आंदोलन आज 28वें दिन में दाखिल हो गया। राज्य सचिव सरवन सिंह पंधेर द्वारा जोन कत्थुनंगल में बड़ा एकत्र कर मार्च करने के बाद अमृतसर-जम्मू मार्ग पर केंद्र सरकार की अर्थी फूंकी गई।

इसके बाद गांव मल्लिया में अमृतसर जिले के 10वें नए जोन की स्थापना की। इसके अलावा बाबा बकाला जोन, मेहता जोन में मीटिंग का आयोजन कर आंदोलन को और तेज किया गया। रेल रोको आंदोलन को संबोधित करते हुए हरप्रीत सिंह सिधवां, रणजीत सिंह कलेरबाला, गुरबचन सिंह चब्बा ने कहा कि पंजाब विधानसभा में जो प्रस्ताव पास किए गए हैं, उनका जत्थेबंदी विरोध करती है। एक तरफ कानून रद्द करने की बात और दूसरी तरफ कानून में संशोधन की बात कही गई है। गेहूं और धान की फसल छोड़ बाकी 21 फसलों से लूट करने की छूट दी हुई है।

कानूनों के बारे में अहम फैसला राज्य की कोर कमेटी में होगा। इस मौके पर मंगजीत सिंह सिधवां, बलकार सिंह देवीदासपुरा, राज सिंह ताजेचक्क, अमरदीप सिंह गोपी, लखविंदर सिंह डाला, भूपिंदर सिंह मालुवाल, शरनजीत सिंह बचीविंड, कुलवंत सिंह राजाताल, साहिब सिंह कक्कड़, परगट सिंह किरलगड़, अमरीक सिंह चविंडा, पलविंदरपाल सिंह चमियारी, हरजिंदर सिंह चमियारी, हरजिंदर सिंह बोहलिया, दविंदर सिंह खतराय कलां, मुख्तार सिंह भंगवां, कृपाल सिंह कलेरमांगट, प्रताप सिंह हमजा, हरबिंन्दर सिंह लाली और सेवा सिंह पंधेर हाजिर थे।