आसाराम बापू पर किताब प्रकाशित, अदालत से मिली हरी झंडी, जल्द आएगी बाजार में

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज) : यौन शोषण के आरोप में जेल में बंद आसाराम बापू के उपर किताब लिखी गयी है। वह किताब अब बाजार में भी आएगी। दरअसल, किताब पर चंडीगढ़ की एक अदालत ने रोक लगाने से इनकार कर दिया है। 

लेखक यूषीनोर मजूमदार की किताब, गॉड ऑफ सिन: द कल्ट, द क्लाउट एडं डाउनफाल ऑफ आसाराम बापू का विरोध हुआ और इसके प्रकाशन को अदालत में चुनौती दी गई। हालांकि, अदालत ने इसकी खुदरा और ऑनलाइन बिक्री की अनुमति दे दी है। 

किताब के प्रकाशक पैंग्विन रैंडम हाउस इंडिया ने अदालत की आदेश की प्रशंसा करते हुये कहा है कि वह अब इसे पाठकों के हाथों में पहुंचाने को लेकर उत्सुक है। मजूमदार ने कहा, यह किताब अदालतों के फैसलों और कई जांच एजेंसियों की रिपोर्टों पर आधारित है। इसमें मैंने तथ्यों को जोडऩे की कोशिश की है।

आसाराम और उसके बेटा नारायण साई पर यौन हमलों, जमीन पर कब्जे, काले धन को सफेद बनाने, धमकाने, काला जादू जैसे अंधविश्वास फैलाने और उनके खिलाफ गवाह बने व्यक्ति की हत्या करवाने का आरोप है। 

पांच साल पहले एक नाबालिग लड़की से बलात्कार का दोषी पाये जाने के बाद जोधपुर की अदालत ने उसे उम्रकैद की सजा सुनाई थी। उसने राजस्थान के राज्यपाल से अपनी उम्रकैद की सजा में राहत देने की अपील की है।