सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों के संबंध में PTM का सिलसिला शुरू, करीब 27 लाख छात्रों के अभिभावकों द्वारा हिस्सा लेने की उम्मीद

चंडीगढ़ (उत्तम हिन्दू न्यूज): कोविड-19 की चल रही महामारी के कारण स्कूलों की तालाबन्दी के बावजूद पंजाब के स्कूल शिक्षा विभाग ने न केवल सरकारी स्कूलों के बच्चों की पढ़ाई को जारी रखकर विद्यार्थियों के इम्तिहान भी लिए हैं, बल्कि अब इसने एक कदम और आगे बढ़ाते हुए बच्चों की पढ़ाई का मूल्यांकन करने के लिए अभिभावक-अध्यापक मीटिंग्ज़ (पी.टी.एम.) का सिलसला भी शुरू कर दिया है। इन मीटिंग्ज़ में 27 लाख से अधिक विद्यार्थियों के अभिभावकों द्वारा हिस्सा लेने की उम्मीद है।

इसकी जानकारी देते हुए पंजाब स्कूल शिक्षा विभाग के एक प्रवक्ता ने बताया कि प्री-प्राईमरी से लेकर 12वीं तक के विद्यार्थियों के अभिभावकों के साथ पी.टी.एम. का सिलसिला आज 14 सितम्बर को शुरू कर दिया गया है और यह 19 सितम्बर तक एक हफ़्ता चलेगा। इस दौरान विद्यार्थियों के अभिभावकों के साथ ऑनलाईन मीटिंगें करके उनको ऑनलाईन पढ़ाई की महत्ता संबंधी जानकारी दी जाएगी। इसके साथ ही उनकी समस्याओं का पता लगाया जाएगा और उनके बच्चों की पढ़ाई में और सुधार लाने के सम्बन्ध में सुझाव लिए जाएंगे। इसके साथ ही मिड-डे-मील, किताबों की बाँट, पी.ए.एस. की तैयारी और महत्ता, पंजाब ऐजूकेयर ऐप और सप्लीमैंटरी मटीरियल, और बच्चों की पढ़ाई के अलावा उनके स्वास्थ्य संबंधी विचार-विमर्श किया जाएगा और कोविड-19 के सम्बन्ध में अभिभावकों को जानकारी दी जाएगी। इस समय सरकारी स्कूलों में प्री-प्राईमरी से लेकर 12वीं कक्षा तक 26,95,424 विद्यार्थी पढ़ते हैं।

सरकारी स्कूलों की बेहतर कारगुज़ारी के कारण इस साल सरकारी स्कूलों में दाखि़लों में 14.55 प्रतिशत की वृद्धि हुई है और निजी स्कूलों में पढऩे वाले तकरीबन 1 लाख 60 हज़ार विद्यार्थी निजी स्कूलों को छोडक़र सरकारी स्कूलों में दाखि़ल हुए हैं। साल 2019 में सरकारी स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या 23,52,112 थी, जो इस साल बढक़र 26,94,424 हो गई है।