फरीदाबाद की नीमका जेल में कैदी ने फांसी लगाकर दी जान

फरीदाबाद (मनोज तोमर): नीमका गांव स्थित जिला जेल में बंद एक युवक ने मंगलवार तडक़े बैरक के बाथरूम में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। अनंगपुर गांव का रहने वाला यह युवक 27 साल की महिला की हत्या कर शव को खुर्द बुर्द करने के आरोप में जेल में बंद था। जेल प्रशासन ने इस बारे में पुलिस, कोर्ट व मृतक के परिजनों को सूचना दी। दोपहर बाद 2 बजे मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में शव को फांसी से उतारकर पोस्टमॉर्टम के बीके अस्पताल भेजा गया। जिला जेल में इससे पहले 18 जून की सुबह भी सोनू नामक युवक ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी।

थाना सूरजकुंड पुलिस के अनुसार अनंगपुर गांव का रहने वाला सुरेश कुमार पीएम प्राइवेट लिमिटेड कंपनी में बतौर सुपरवाइजर लगा हुआ था। इस कंपनी में मेवला महाराजपुर गांव में किराए पर रहने वाली 27 साल की सुजाता नामक महिला भी नौकरी करती थी। महिला के पति का आरोप था कि दोनों के बीच प्रेम-प्रसंग चल रहा था। महिला को उसके पति ने सुरेश से बातें करते हुए देख लिया था। इसके बाद महिला के पति ने कंपनी जाकर सुरेश को अपनी पत्नी से दूर रहने की हिदायत भी दी थी। 29 फरवरी को तबीयत खराब होने पर महिला का पति काम से घर वापस आ गया था। मगर, उसकी पत्नी घर पर नहीं थी। इस पर वह अपनी पत्नी को खोजते हुए सिद्धदाता आश्रम तक आ गया था। मगर, पत्नी का कुछ पता नहीं चल सका। इस बीच पीडि़त को वहां मिले उसके एक रिश्तेदार ने बताया कि उसकी पत्नी को अनंगपुर गांव निवासी सुरेश बाइक पर बैठाकर अरावली पहाड़ी में झील की ओर लेकर गया है। वह अपने रिश्तेदार के साथ डेथवैली झील से आगे वाली झील पर चला गया। वहां जाकर देखा तो झील में एक महिला का शव तैर रहा था।

इस पर पीडि़त ने पुलिस और फायर बिग्रेड को सूचित किया। फायर बिग्रेड कर्मचारियों ने महिला के शव को झील से निकाल लिया था। इसके बाद पुलिस ने महिला के पति की शिकायत पर उसके प्रेमी एवं कंपनी सुपरवाइजर के खिलाफ हत्या और शव को खुर्द-बुर्द करने का मामला दर्ज कर उसे अरेस्ट कर लिया था। पुलिस से पूछताछ में आरोपित सुरेश ने स्वीकार किया था कि महिला शादीशुदा थी। जबकि उसकी शादी नहीं हुई थी। महिला उस पर शादी का दबाव बना रही थी। तब से वह जेल में बंद था। जिला जेल के डिप्टी सुपरिटेंडेंट सचिन कुमार ने बताया कि बंदी सुरेश कुमार ने चादर के कपड़े से फंदा बनाकर जेल के बैरक में बने बाथरूम में रोशनदान से लटककर फांसी लगाई है। जिसकी सूचना परिजनों, पुलिस और कोर्ट को दी गई। दोपहर के समय जेएमआईसी मोहम्मद जकारिया की मौजूदगी में शव को फंदे से उतारकर पोस्टमॉर्टम के लिए बीके अस्पताल भेज दिया है।