संसद का शीतकालीन सत्र बुलाने के लिए राष्ट्रपति हस्तक्षेप करें : बादल

चंडीगढ़ (उत्तम हिन्दू न्यूज): सांसद व शिरोमणी अकाली दल (शिअद) के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने आज राष्ट्रपति से संसद का शीतकालीन सत्र तुरंत बुलाने के लिए हस्तक्षेप करने का आग्रह किया।  बादल ने इस संदर्भ में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखा है और कहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र को कोविड-19 महामारी के बहाने से रद्द नहीं किया जा सकता क्योंकि जब महामारी चरम सीमा पर थी तो तीन विवादास्पद कृषि कानूनों को पारित किया गया। श्री बादल के अनुसार उस समय प्रधानमंत्री ने देशव्यापी लॉकडाऊन घोषित किया था।

शिअद अध्यक्ष ने कहा कि अब तो सरकार ने खुद स्वीकार किया है कि अब लाॅकडाउन की कोई आवश्यकता नहीं है तो फिर शीतकालीन को रद्द करने का क्या औचित्य है। बिहार में चुनाव कराये जाने व पश्चिम बंगाल में भाजपा की चुनावी रैलियों का हवाला देते हुए श्री बादल ने कहा कि भाजपा हजारों लोगों की सभाओं के दौरान आम लोगों के स्वास्थ्य के लिए कोई खतरा नहीं देखती लेेकिन दूसरी तरफ संसद सत्र में यह खतरा देखती है। भाजपा की रैलियों के लिए लॉकडाऊन नहीं है, संसद पर लॉकडाऊन है जिसमें सिर्फ कुछ सौ सदस्य हैं तथा वह भी नियंत्रित परिस्थितियों में यह बहाना नकली तथा हास्यास्पद है। उन्होंने सरकार के रवैये को ‘ऐतिहासिक भूल‘ करार देते हुए कहा कि संसद से कुछ सौ गज के दायरे में किसान आंदोलन कर रहे हैं ऐसे में संसद सत्र रद्द नहीं किया जाना चाहिए।