पाठ्यक्रम में मूक कोर्स तैयार करें शिक्षक : कुलपति

कुरुक्षेत्र (दुग्गल) - कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के कुलपति डा. कैलाश चन्द्र शर्मा ने कहा है कि नए शैक्षणिक सत्र से विश्वविद्यालय के सभी विभाग मूक पाठ्यक्रमों को शैक्षणिक सत्र का हिस्सा बनाएं। साथ ही अपने-अपने पाठ्यक्रमों के लिए मूक कोर्स भी तैयार करें। वे शुक्रवार को  कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के फैकल्टी डैवलेपमेंट सेंटर द्वारा सीनेट हॉल में आयोजित मेसिव ओपन आनलाईन कोर्स, मूक एक दिवसीय कार्यशाला में बतौर मुख्यातिथि बोल रहे थे।

 कुलपति ने कहा कि मैसिव ओपन ऑनलाईन कोर्स समय की जरूरत है। गुणवत्तापूर्ण शिक्षण के लिए इनको अपनाना किसी भी विश्वविद्यालय, विभाग व विद्यार्थी के लिए बहुत ही जरूरी है। मानव संसाधन विकास मंत्रालय यूजीसी के माध्यम से स्वयं पोर्टल पर मूक कोर्स उपलब्ध करवा रहा है। यूजीसी के दिशा निर्देशानुसार कोर्स का 20 प्रतिशत मूक कोर्स अपनाना जरूरी है। इस मौके पर कुलपति ने कार्यशाला आयोजन के लिए फैकल्टी डैवलेपमेंट सेंटर की प्रोजेक्ट कोर्डिनेटर प्रो. नीरा वर्मा को बधाई दी।

कार्यशाला  को सम्बोधित करते हुए डीन एकेडमिक अफेयर प्रो. मंजूला चौधरी ने कार्यशाला के उद्देश्यों पर विस्तार से बताया। उन्होंने कहा कि इस कार्यशाला का उद्देश्य शिक्षकों को मूक पाठ्यक्रमों के लिए तैयार करना है। फैकल्टी डैवलेपमेंट सेंटर की प्रोजेक्ट कोर्डिनेटर प्रो. नीरा वर्मा ने बताया कि इस कार्यशाला में विश्वविद्यालय के 100 से अधिक अधिकारी व शिक्षकों ने भाग लिया। प्रोग्राम कोर्डिनेटर डॉ. तरूणा सी ढल ने सभी का धन्यवाद किया और बताया कि कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय विधि व लोक प्रशासन विषयों में पहले ही मूक पाठ्यक्रम तैयार कर चुका है। इस मौके पर बड़ी संख्या में विभागाध्यक्ष एवं शिक्षक मौजूद रहे।