ठेकेदारों की लापरवाही का खामियाजा भुगत रहे कृष्णा नगर के लोग

हिसार/विजय शर्मा - शुक्रवार देर शाम आई बारिश ने जहां जन जीवन अस्त व्यस्त कर दिया वही कृष्णा नबर के लोगो को भी नारकीय जीवन जीने पर मजबूर कर दिया। चारों और बरसात के पानी से घीरे इस नगर में देर रात यह हालात थे कि लोगों को अपने घरों तक पंहुचना मुश्किल हो गया। कृष्णा नगर की एसपी कोठी के सामने वाली मुख्य गली विगत कई मास से निर्माणाधीन है। सरकारी सुत्रों के अनुसार इसमें सीवरेज और बरसाती नाले का काम चल रहा है। धीमी गती और ठेकेदारों की लापरवाही की कीमत स्थानीय लोगो को चुकानी पड़ रही है। 

बरसात से पूर्व जहां इस सड़क पर पैदल चलना भी मुश्किल था अब बरसात के वाद घर से बाहर निकलना भी दुर्लभ हो गया है।ठेकेदारों द्वारा बरसाती नाले के पाईप डालने के बाद गड्ढों को न तोपुरी तरह से मिट्टी को भरा गया और न ही उसपर ठीक प्रकार से लॉकीग टाईल लगाई गई। परिणाम स्वरूप बरसात के आने से मिट्टी निचे बैठ गई और सारी सडक में बडेगड्ढे बन गए और सडक नाले में तबदील हो गई। हालत यह होगई कि स्कूल की बसों को दूर से बच्चों को लेजाना पडा और अभिभावकों को इस समस्या का सामना करना पडा। ऐसे में कई वाहन इन गड्ढोंं मेंधंस गए । ठेकेदारों की लापरवाही का यह आलम है कि काम बंद हुए दौमास मास होने को है लेकिन सड़क पर पडे पाईपों की कोईसुध लेने वाला नही। 

न ठेकेदार इन्हे उठवाता है और नही प्रशासन कोई कार्यवाही करता है।स्थानीय लोगो का कहना है कि थोडी सी बरसात मे ही सीवरेज भर जाते है और पानी घरों से निकलने लगता है। एक और सरकारी तन्त्र सीवरेज व जल निकासी व्यवस्था का दावा करता है लेकिन जमीनी हकीकत यह है कि समस्या और बढ़ गई। पावर हाऊस रोड पर घुटनों तक जमा पानी के निकासी का कोई रास्ता नही। कैंप चौक पर सब्जी मंडी पुल से पहले पानी निकासी का कोई साधन नही ऐसे में प्रशासन की अनदेखी व ठेकेदारों की लापरवाही कीमत चुका रहे है कृष्णा नगर के लोग।