UNSC में नाकामी के बाद पाकिस्तान ने की हाई प्रोफाइल बैठक, विशेष कश्मीर सेल के गठन का फैसला

इस्लामाबाद (उत्तम हिन्दू न्यूज): पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरेशी की अध्यक्षता में शनिवार को जम्मू एवं कश्मीर की स्थिति पर चर्चा करने और भविष्य की कार्य योजना तैयार करने के लिए शीर्ष अधिकारियों की बैठक की। अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी कर जम्मू एवं कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा वापस लेने के भारत के फैसले का मुद्दा संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में उठाकर इस फैसले को रुकवा पाने में पाकिस्तान विफल रहा। 

इस बैठक के बाद पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी और पाक सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने एक संयुक्त प्रेसवार्ता की। आसिफ गफूर ने कहा कि ऐसा हो सकता है कि कश्मीर मुद्दे से दुनिया का ध्यान भटकाने के लिए भारत पाकिस्तान पर हमला कर सकता है, लेकिन हम ऐसी किसी भी स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार हैं।'

उन्होंने कहा कि इसीलिए नियंत्रण रेखा पर अतिरिक्त सैनिक तैनात किए गए हैं। अनायास युद्ध की संभावना की चेतावनी देते हुए सेना प्रवक्ता ने कहा, 'कश्मीर मुद्दा एक न्यूक्लियर फ्लैशपॉइंट है।' वहीं, कुरैशी ने कहा कि बैठक में फैसला लिया गया है कि  विदेश मंत्रालय में एक विशेष कश्मीर सेल का गठन किया जाएगा। उन्होंने कहा, 'इस मुद्दे को वैश्विक स्तर पर सामने लाने के लिए सभी दूतावासों में कश्मीरी नागरिकों को नियुक्त किया जाएगा।' संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के बारे में उन्होंने कहा कि हमने कश्मीर मुद्दे को बहुत ऊपर तक उठाया, जो किए बड़ी सफलता रही।