साबुन-शैंपू बेचने वाली कंपनी ने लगाया 250 करोड़ का चूना, ग्राहकों को नहीं दिया कम GST का लाभ

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): वाशिंग पाऊडर, शैंपू और टूथब्रश बनाने वाली कंपनी पीएंडजी (प्रोक्टर एंड गैंबल) 250 करोड़ रुपए की मुनाफाखोरी की दोषी पाई गई है। कंपनी के खिलाफ जीएसटी इकाई की जांच में ये बात सामने आई है कि कंपनी ने विभिन्न प्रोडक्ट्स पर जीएसटी की दर कम होने का फायदा ग्राहकों तक नहीं पहुंचाया और ग्राहकों से जीएसटी कम होने के बावजूद अधिक दाम की वसूली की।  


दरअसल कंपनी के बहुत से उत्पादों का जीएसटी सरकार ने 28 प्रतिशत से घटाकर 18 प्रतिशत कर दिया था लेकिन कंपनी ने इसके बावजूद उत्पादों के दाम कम नहीं किए। एक अधिकारी ने कहा, 'डीजीएपी की रिपोर्ट में कहा गया है कि पीऐंडजी ने 250 करोड़ रुपये का मुनाफा कमाया है। राष्ट्रीय मुनाफाखोरी-रोधी प्राधिकरण अब इस पर कंपनी का पक्ष सुनकर अंतिम निर्णय देगा।' उधर, पीऐंडजी के प्रवक्ता का कहना है कि कहा कि एक जिम्मेदार कंपनी के तौर पर पीऐंडजी हमेशा जीएसटी में कटौती का लाभ ग्राहकों को पहुंचाने के लिए प्रतिबद्ध है। इस बारे में हमने विज्ञापन के माध्यम से सबको सूचना भी दी है।