हरियाणा में फिल्मों की शूटिंग के लिये मिलेगी ऑनलाइन मंजूरी

चंडीगढ़ (उत्तम हिन्दू न्यूज): हरियाणा की संस्कृति, कलाकारों और धार्मिक पृष्ठभूमि को देश और विदेश तक पहुंचाने के लिए प्रदेश में फिल्म निर्माताओं को आकर्षित करने और फिल्म शूटिंग की मंजूरी के लिए राज्य सरकार ने ऑनलाइन सेंट्रल पोर्टल तैयार किया है जिस पर आवेदन के बाद सात कार्यदिवस के भीतर फिल्म शूटिंग की मंजूरी प्रदान की जाएगी।

राज्य के सूचना, जनसम्पर्क एवं भाषा विभाग के महानिदेशक समीर पाल सरो ने आज यहां वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सभी सिटी मजिस्ट्रेट और जिला सूचना, जनसम्पर्क अधिकारियों के साथ हुई बैठक में यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि राज्य में फिल्म नीति 27 अक्तूबर, 2018 को जारी की गई थी जिसका मुख्य उद्देश्य राज्य की संस्कृति, कलाकारों और धार्मिक पृष्ठभूमि को बढ़ावा देना था। राज्य में हरियाणा फिल्म प्रमोशन बोर्ड भी बनाया गया है। इस बोर्ड के चेयरमैन महेंद्रगढ़ जिले के निवासी मशहूर फिल्म निर्माता सतीश कौशिक हैं।

विभाग के महानिदेशक ने कहा कि फिल्मों की शूटिंग के लिए मंजूरी मिलने में देरी न हो, इसके लिए ही ईज ऑफ डुईंग बिजनेस की तर्ज पर एकल खिड़की प्रणाली स्थापित की गई है जिसके तहत केवल सात कार्य दिवसों के भीतर मंजूरी प्रदान की जाएगी। इस सम्बंध में जिला स्तर पर सम्बंधित सीटी मजिस्ट्रेट को सरकार की ओर से नोडल अधिकारी मनोनीत किया गया है। उन्होंने कहा कि आवेदन करने वालों को व्यक्तिगत रूप से नहीं बल्कि ऑनलाइन फिल्म सैल पर आवेदन करना है। आवेदन के सात दिन के बाद मंजूरी पत्र भी उसे ऑनलाइन ही उपलब्ध हो जाएगा। उन्होंने कहा कि सीटी मजिस्ट्रेट की अहम जिम्मेदारी रहेगी कि वे पोर्टल के माध्यम से प्रेषित की जाने वाली मंजूरी को बिना किसी देरी के सम्बंधित विभाग को भेजेंगे। उसके बाद मुख्यालयों पर मनोनीत नोडल अधिकारी समन्वय स्थापित कर निर्धारित समय में फिल्म शूटिंग की मंजूरी प्रदान की जा सके। उन्होंने कहा कि यदि किसी कारणवश मंजूरी नहीं दी जा सकती है तो उसका सही कारण बताकर पोर्टल पर अपलोड किया जाए, लेकिन बिना कारण कोई भी आवेदन रद्द नहीं किया जा सकता।

उन्होंने कहा कि पोर्टल पर फिल्म निर्माताओं के लिए हरियाणा में शूटिंग लोकेशन और हरियाणवी कलाकारों की जानकारी भी उपलब्ध कराई गई है। उन्होंने कहा कि फिल्म नीतिक के अनुसार यदि कोई फिल्म निर्माता हरियाणा की पृष्ठभूमि पर फिल्म बनाता है या हरियाणा के कलाकारों को फिल्म में लेता है अथवा अन्य तकनीकी स्टाफ के तौर पर उनसे काम देता है तो उसे प्रोत्साहन राशि दी जाएगी। इसके लिए भी इसी साइट पर आवेदन करना होगा। यह राशि एक करोड़ से लेकर तीन करोड़ तक हो सकती है।

सरो ने कहा कि फिल्म शूटिंग के लिए राज्य में लगभग 40 अच्छी लोकेशन हैं। पिंजौर से लेकर नारनौल तक ऐतिहासिक धरोहरों से लेकर समृद्ध सांस्कृतिक विरासत वाले इस प्रदेश की तरफ आने वाले समय में फिल्म उद्योग बहुत अधिक संख्या में युवाओं के रोजगार के अवसर पर उपलब्ध कराएगा। उन्होंने बताया कि शुरु में 18 विभागों नामत: शहरी स्थानीय निकाय विभाग, उद्योग एवं वाणिज्यिक विभाग, पयर्टन विभाग, आबाकारी एवं कराधान, पुलिस, कला एवं संस्कृति मामले विभाग, पुरातत्व एवं संग्रहालय, जेल, नगर एवं ग्राम आयोजना विभाग, लोक निर्माण (भवन एवं सड़कें), हरियाणा शहरी विकास प्राधिकारण, होम गार्ड एवं सिविल डिफेंस, उच्चतर शिक्षा, एचएसआईआईडीसी, सूचना, जनसम्पर्क एवं भाषा विभाग, गृह, फायर सर्विस और ग्रामीण विकास विभाग के नोडल अधिकारी मुख्यालय स्तर पर बनाए गए हैं जो फिल्मों की शूटिंग सम्बंधी कार्य पॉलिसी में निर्धारित समयानुसार करेंगे।