लालजी टंडन के सम्मान में बिहार में एक दिन का राजकीय शोक

पटना (उत्तम हिन्दू न्यूज): बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राज्य के पूर्व राज्यपाल लालजी टंडन के निधन पर गहरी शोक-संवेदना व्यक्त की वहीं टंडन के सम्मान में प्रदेश में मंगलवार को एक दिन का राजकीय शोक घोषित किया गया है। कुमार ने मंगलवार को यहां अपने शोक संदेश में कहा कि मध्य प्रदेश के राज्यपाल टंडन एक लोकप्रिय राजनेता, कुशल प्रशासक एवं प्रख्यात शिक्षाविद् थे। बिहार के राज्यपाल के रूप में उनका कार्यकाल अविस्मरीणीय रहेगा। उन्होंने बिहार में उच्च शिक्षा के विकास को गति प्रदान की।

मुख्यमंत्री ने कहा कि श्री टंडन ने उत्तर प्रदेश में भी लखनऊ के सांसद तथा राज्य के विभिन्न विभागाें के मंत्री पद पर रहते हुए अपनी जिम्मेदारियों का कुशलतापूर्वक निर्वहन किया। उन्होंने कहा, “टंडन के साथ मेरा व्यक्ति संबंध था और उनके निधन का समाचार सुनकर मुझे बेहद दुख पहुंचा है।” स्व. टंडन के सम्मान में बिहार सरकार ने 21 जुलाई को एक दिन का राजकीय शोक घोषित किया है।

मुख्यमंत्री ने दिवंगत आत्मा की चिर शांति तथा उनके परिजनों को दुख की इस घड़ी में धैर्य धारण करने की शक्ति प्रदान करने की ईश्वर से प्रार्थना की है। उन्होंने टंडन के पुत्र एवं उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री आशुतोष टंडन और दूसरे पुत्र सुबोध टंडन से दूरभाष पर बातचीत कर उन्हें सांत्वना दी। उल्लेखनीय है कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वयोवृद्ध नेता टंडन का मंगलवार सुबह उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में निधन हो गया। वह 85 वर्ष के थे। वह पिछले कई दिनों से बीमार थे और उनका लखनऊ के एक अस्पताल में इलाज चल रहा था। उनका अंतिम संस्कार आज शाम किया जायेगा।