OMG: शादी के तोहफे में सोना-चांदी नहीं बंदूक और पिस्टल मांगती हैं यहां की लड़कियां  

बागपत (उत्तम हिन्दू न्यूज): उत्तर प्रदेश में बागपत की बेटियां शादी के मौके पर मिलने वाले तोहफे में सोना एवं चांदी के जेवर सहित अन्य कीमती सामान की बजाए निशाना लगाने के लिए बंदूक एवं पिस्टल की मांग करती है। बागपत की बेटियों की यह मांग परिवार के लोग बड़ी खुशी के साथ पूरा भी कर रहे हैं। क्योंकि यही बंदूक ही तो उनके भविष्य को सवार रही है।

Image result for निशाना लगाने के लिए शादी से पहले ही लड़कियां दहेज में मांगती है बंदूक

बागपत में बड़ौत क्षेत्र के जौहड़ी गांव से इन बेटियों की यह कहानी जुड़ी हुई है। जहां लड़कियां गांव स्थित बीपी सिंघल शूटिंग रेंज (यहीं पर भारतीय खेल प्राधिकरण का प्रशिक्षण केंद्र भी है) पर अभ्यास करती हैं और राष्ट्रीय एवं अतंरराष्ट्रीय स्तर पर होने वाली निशानेबाजी प्रतियोगिताओं में ढेरों सोने-चांदी और कांस्य के पदक जीत चुकी हैं।

इसी आधार पर इन बेटियों को रोजगार मिल गया है। कोई भारतीय खेल प्राधिकरण की कोच बनकर निशानेबाजी सिखा रही है तो कोई एयर इंडिया में नौकरी कर रही है। कोई सीआरपीएफ में असिस्टेंट कमांडेंट बन देश सेवा कर रही है तो कोई अध्यापक बन देश का भविष्य गढ़ रही है।

Image result for निशाना लगाने के लिए शादी से पहले ही लड़कियां दहेज में मांगती है बंदूक

बंदूक मांगने के पीछे निशानेबाज बेटियों का कहना है कि वह माता-पिता के सामने प्रस्ताव रखती है कि शादी से पहले उन्हें (बंदूक पिस्टल या रायफल) दिला दो। इससे वह राष्ट्रीय और अतंरराष्ट्रीय स्तर पर पदक जीतकर नौकरी पा सके। नौकरी मिलने के बाद वह आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर हो जाएंगी और उसके बाद दहेज के बिना ही उनकी शादी हो जाएगी।