परमाणु ऊर्जा में बिजली की मांग को पूरा करने की क्षमता है: वेंकैया

हैदराबाद(उत्तम हिन्दू न्यूज)- उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने गुरुवार को कहा कि परमाणु बिजली ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को काफी कम कर देगी और यह देश में बढ़ती ऊर्जा की मांग को पूरा करने की क्षमता रखती है। 

श्री नायडू यहां गुरुवार को परमाणु खनिज अन्वेषण एवं अनुसंधान निदेशालय (एएमडी) के 70वें स्थापना दिवस पर आयोजित एक सभा में वैज्ञानिकों तथा कर्मचारियों संबोधित करते हुए कहा कि जलवायु परिवर्तन आज सबसे महत्वपूर्ण पर्यावरणीय चिंताओं में से एक है। वर्तमान में आधुनिक प्रौद्योगिकियाें काे सुरक्षित एवं विश्वसनीय बनाने की आवश्यकता पर उपराष्ट्रपति ने कहा कि परमाणु ऊर्जा विश्वसनीय और सुरक्षित ऊर्जा विकल्पों में से एक है। उन्होंने देश में परमाणु ऊर्जा संयंत्राें के 40 वर्षों से अधिक समय तक बिना किसी गंभीर घटना के संचालन का रिकॉर्ड कायम करने की सराहना की। उन्होंने कहा, “ देश में बढ़ती बिजली की मांग को देखते हुए परमाणु ऊर्जा की भूमिका भविष्य में काफी महत्वपूर्ण होगी और हमें संसाधनों का अधिकतम उपयोग करने के लिए नयी एवं अधिक कुशल तकनीक विकसित करने की जरूरत है।” 

उपराष्ट्रपति ने कहा कि परमाणु ऊर्जा के क्षेत्र में भारत की रुचि इस धारणा के साथ बढ़ी है कि परमाणु शक्ति का उपयोग देश के मानव एवं सामाजिक विकास में किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि देश ने सजगता से आने वाले दशकों में कम कार्बन विकास मॉडल को आगे बढ़ाने के लिए एक रणनीतिक विकल्प बनाया है और कहा कि प्रदूषण को कम करना एक बड़ी चुनौती है।