Monday, May 20, 2019 02:02 AM

अब दुश्मनों की खैर नहीं : साइबर-स्पेस की सुरक्षा व सर्जिकल स्ट्राइक करेगा सेना का ये ख़ास दस्ता

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज) : भारतीय सेना में पहली बार उरी और सर्जिकल स्ट्राइक जैसे स्पेशल ऑपरेशन, साइबर हमले और अंतरिक्ष सुरक्षा की दृष्टि से स्पेशल ऑपरेशन डिवीजन शुरू किया गया है। यह खास दस्ता साइबर-स्पेस की सुरक्षा और दुश्मनों पर सर्जिकल स्ट्राइक करेगा। 1 पैरा-स्पेशल फ़ोर्स यूनिट के मेजर जनरल एके धींगड़ा को इस डिवीजन का पहला कमांडर बनाया गया है। इसमें विशेष तौर पर सेना की पैराशूट रेजिमेंट, नौसेना की मार्कोस और वायु सेना के गरुड़ कमांडो बल के विशेष कमांडो शामिल होंगे। बताया जा रहा है कि धींगड़ा के अलावा एडमिरल मोहित गुप्ता को नई डिफेंस साइबर एजेंसी की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

Related image

इसी तरह एक डिफेंस स्पेस एजेंसी भी बनायी गई है जिसकी जिम्मेदारी इंडियन एयर फ़ोर्स के एक वाइस एयर मार्शल को सौंपी जाने वाली है, हालांकि उनका नाम अभी तक सामने नहीं आया है। आर्म्ड फोर्सेज स्पेशल ऑपरेशंस डिवीजन कमाडोंज की एक छोटी सी टीम के जरिए काम करना शुरू करेगा। इसमें 3,000 प्रशिक्षित कमांडोज़ होंगे जो जंगलों, समुद्र में युद्ध करेंगे और हेलीकॉप्टर रेस्क्यू ऑपरेशंस का काम करेंगे।

Related image

इन तीन एजेंसियों के हाथ में होगा बहुत कुछ
रिपोर्ट के मुताबिक ये तीनों एजेंसियां इसी साल अक्टूबर-नवंबर से पूरी तरह काम करने लगेंगी। इन तीनों की जिम्मेदारी मैदानी, समुद्री और हवाई युद्ध और सामान्य आतंकवाद की जगह साइबर हमले, अंतरिक्ष सुरक्षा और सर्जिकल स्ट्राइक या हॉस्टेज स्थितियों में स्पेशल ऑपरेशंस को अंजाम देगी। 

Related image

फ़िलहाल स्पेशल ऑपरेशन डिवीजन के पास ज़रूरत के हिसाब से काफी कम संख्या में कमांडो मौजूद हैं। बता दें कि सेना के पार फिलहाल नाइन पैरा-स्पेशल फोर्सेज और फाइव पैरा बटालियन मौजूद हैं जिनमें 620-620 कमांडो मौजूद हैं। जबकि नेवी के पास 1200 मार्कोस जिन्हें मरीन कमांडो भी कहा जाता है उपलब्ध हैं, साथ ही 1000 गार्ड कमांडो भी हैं। रक्षा मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक तीनों नई एजेंसियां आपस में और भारतीय सेना, नेवी और वायु सेना के साथ कंधे से कंधा मिलकर काम करेगी।

Image result for indian army

नए हथियार और नया तरीका
सरकार काफी वक़्त से इन नई तीन डिवीजन की कमी महसूस कर रही थी। अब जब ये डिवीजन बन गई हैं तो इन्हें दुनिया के सबसे आधुनिक हथियार और साजो-सामान मुहैया कराए जाएंगे। अभी भी पैरा और मार्कोज के पास सेना के मुकाबले आधुनिक हथियार मौजूद हैं। इन हथियारों में लॉन्ग रेंज स्नाइपर राइफल्स, एंटी टैंक मिसाइल, अंडर वाटर स्कूटर और माइक्रो ड्रोन शामिल हैं।

क्यों बनीं नई एजेंसियां?
सूत्रों के मुताबिक अभी भी स्पेशल ऑपरेशंस के लिए पैरा और मार्कोस जैसी फोर्सेज तो थीं लेकिन उनका कोई स्वतंत्र अस्तित्व नहीं था। ऐसे में उन्हें काम करने के लिए कई तरह की कमेटियों और मंजूरियों से गुजरना होता था। साल 2012 में नरेश चंद्रा टास्क फ़ोर्स का गठन हुआ जिसने भी इन एजेंसियों के लिए सिफारिश की थी। खासकर मुंबई हमले, उरी अटैक और सर्जिकल स्ट्राइक जैसी परिस्थितियों में लालफीताशाही सबसे बड़ी मुश्किल थी। जैसे कि डिफेंस स्पेस एजेंसी को डिफेंस इमेजरी प्रोसेसिंग एंड अनालिसिस सेंटर (दिल्ली) और डिफेंस सैटेलाइट कंट्रोल सेंटर (भोपाल) को मिलाकर बनाई गई है।

देश की सबसे बड़ी और तेज WhatsApp News Service से जुड़ने के लिए हमारे नंब 7400023000 पर Missed Call दें। इस नंबर को Save करना मत भूलें।