Tiktok और Helo को सरकार का नोटिस, 21 सवालों के जवाब न देने पर लग सकता है बैन

05:44 PM Jul 18, 2019 |

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): TikTok और Helo ऐप को इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी मंत्रालय ने नोटिस भेजा है। नोटिस में ऐप पर कई राष्ट्रविरोधी और गैरकानूनी गतिविधियों का इस्तेमाल किया जा रहा है। अधिकारिक सूत्रों का कहना है कि नोटिस के साथ सरकार की ओर से इन्हें 21 सवाल भी भेजे गए हैं। साथ ही कहा गया है कि इन सवालों का उचित जवाब न देने की स्थिति में ऐप्स पर बैन लगा दिया जाएगा।

बता दें कि आरएसएस से जुड़ी संस्था स्वदेशी जागरण मंच ने प्रधानमंत्री से शिकायत की थी कि इन प्लेटफॉर्म्स का प्रयोग देश विरोधी गतिविधियों के लिए किया जा रहा है। इसी का संज्ञान लेते हुए इलेक्ट्रॉनिक्स एवं आईटी मंत्रालय ने नोटिस भेजा है।

टिकटॉक और हेलो की ओर से एक जॉइंट स्टेटमेंट में कहा गया है कि उनकी योजना अगले तीन साल में 1 बिलियन यूएस डॉलर (करीब 68 अरब रुपये) का निवेश करने की है, जिसकी मदद से एक तकनीकी ढांचा तैयार किया जाएगा। इसकी मदद से प्लैटफॉर्म पर अपलोड होने वाले विडियोज और लोकल कम्युनिटी को मॉनीटर किया जाएगा।

मंत्रालय ने टिकटॉक और हेलो से उन आरोपों पर जवाब मांगे हैं, जिनमें कहा गया है कि प्लैटफॉर्म 'देशविरोधी लोगों का ठिकाना बन गया है'। साथ ही इसपर भी जवाब मांगे गए हैं कि भारतीय यूजर्स का डेटा 'किसी भी विदेशी सरकार, थर्ड पार्टी या प्राइवेट कंपनी' को नहीं भेजा जा रहा और भविष्य में भी नहीं भेजा जाएगा। सरकार ने नोटिस भेजकर सुनिश्चित करने को कहा है कि उनके प्लेटफॉर्म का प्रयोग किसी भी तरह की देश-विरोधी गतिविधि के लिए नहीं हो रहा है और लोगों का डेटा अभी और भविष्य में किसी सरकार को ट्रांसफर नहीं किया जाएगा।