+

बेटी की जिंदगी बचाने के लिए 40 लाख में किडनी का सौदा

फगवाड़ा (उत्तम हिन्दू न्यूज): मुंबई पुलिस ने किडनी रैकेट का भंडाफोड़ किया है। इस गिरोह के सगरना सुरेश प्रजापति और उसके साथी वी.निजाम्मुद्दीन को गिरफ्ता
बेटी की जिंदगी बचाने के लिए 40 लाख में किडनी का सौदा

फगवाड़ा (उत्तम हिन्दू न्यूज): मुंबई पुलिस ने किडनी रैकेट का भंडाफोड़ किया है। इस गिरोह के सगरना सुरेश प्रजापति और उसके साथी वी.निजाम्मुद्दीन को गिरफ्तार कर लिया गया है। ये लोग इंटरनेट के माध्यम से पैसों के लिए जरूरतमंद डोनरों (किडनी देने वालों) को ढूंढा करते थे। इसके बाद उनके और सुरेश के बीच बातचीत अधिकतर अहमदाबाद में होती थी, लेकिन मिस्र जाने का नंबर आने पर उन्हें मुंबई के रास्ते से ले जाया जाता था। पूछताछ के दौरान निजामुद्दीन ने बताया कि वह सुरेश प्रजापति के लिए काम करता है। सुरेश अहमदाबाद का रहने वाला है। इसके बाद पुलिस ने तत्काल एक टीम बनाई और अहमदाबाद में छापा मारा। वहां से सुरेश को गिरफ्तार कर मुंबई ले आई। इन दोनों ने खुलासे किए हैं वे हैरान करने वाले हैं। आरोपियों ने बताया इन्होंने फगवाड़ा के मेयर अरुण खोसला से उनकी बेटी को किडनी दिलाने के लिए 40 लाख रुपये में सौदा किया था।

जिस व्यक्ति ने किडनी देनी थी वे आंध्र प्रदेश का था। खोसला ने पुष्टि करते हुए उनकी बेटी प्रत्यारोपण के दौर से गुजरी थी लेकिन वे विवरण का खुलासा नहीं कर सकते। खोसला के बयान पुलिस टीम ने दर्ज किए हैं। मई से अब तक इस गैंग के सदस्य 4 बड़े किडनी सौदे कर चुके हैं। जांच में पता चला है कि जिन लोगों को किडनी बेचने के लिए मिस्र के काइरो भेजा गया था, उनमें से अधिकतर को धन की बहुत जरूरत थी। किडनी प्रत्यारोपण कराने वाले मरीजों से 30 से 35 लाख रुपये तक की रकम वसूली गईं, जबकि बेचने वालों को एक अंग के बदले सिर्फ पांच लाख रुपये दिए गए। किडनी बेचने वालों को यह पूरी रकम नकद में दी जाती थी।

शेयर करें
facebook twitter