पत्नी के जनाजे में शामिल होने के लिए नवाज शरीफ को मिली 12 घंटे की पैरोल

इस्लामाबाद (उत्तम हिन्दू न्यूज): पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की पत्नी कुलसुम नवाज का शव अंतिम संस्कार के लिए शुक्रवार को लाहौर लाया जायेगा। इस बीच जेल में बंद नवाज, उनकी बेटी मरयम ओर दामाद मोहम्मद सफदर बुधवार को लाहौर पहुंचे। उन्हें रावलपिंडी के नूरखान एयरबेस से विशेष विमान द्वारा जाती उमरा पहुंचाया गया। बुधवार सुबह 03.15 बजे पहुंचे तीनों को पंजाब सरकार के गृह विभाग ने 12 घंटे के लिए जमानत दी है। 

अड़सठ वर्षीय बेगम गले के कैंसर (लिम्फोमा) से पीड़ित थी और इस बीमारी की पुष्टि अगस्त 2017 में हो गयी थी। उनका उपचार जून 2017 से लंदन के हारले स्ट्रीट क्लीनिक में चल रहा था। हालत बिगड़ने पर उन्हें सोमवार की रात जीवन रक्षक प्रणाली पर रखा गया था, जहां मंगलवार को उनका निधन हो गया। शरीफ परिवार के सदस्यों के मुताबिक बेगम कुलसुम का शव शुक्रवार को लाहौर लाया जायेगा, जहां उन्हें सुपुर्दे-खाक किया जायेगा। इससे पहले गुरुवार को लंदन में शोक सभा रखी जायेगी।

इस बीच शरीफ, उनकी पुत्री मरयम नवाज और दामाद कैप्टन (सेवानिवृत) सफदर को बेगम कुलसुम के निधन के कुछ घंटो बाद पैरोल पर जेल से रिहा कर दिया। ये तीनों भ्रष्टाचार में मामले में इस समय रावलपिंडी की आदिला जेल में बंद है। शरीफ और उनकी बेटी मरियम जुलाई में उनसे अंतिम बार मिलकर 25 जुलाई को होने वाले संसदीय चुनावों में हिस्सा लेने के लिए स्वदेश लौट अाए थे। इसी दौरान उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।

सरकारी सूत्राें के मुताबिक शरीफ, मरियम और सफदर को 12 घंटे के पैरोल पर रिहा किया गया है , हालांकि उनके पैराेल की अवधि शुक्रवार को बेगम कुलसुम के अंतिम संस्कार संपन्न होने तक बढ़ायी जा सकती है।

Related Stories: