नाभा नगर कौंसिल के प्रधान शैंटी, ईओ कंबोज और क्लर्क हरजिंदरपाल निलंबित

चंडीगढ़ (उत्तम हिन्दू न्यूज): हाऊसिंग फॉर ऑल और स्वच्छ भारत के फंडों के दुरुपयोग के मामले में स्थानीय निकाय विभाग द्वारा बड़ी कार्यवाही करते हुए नगर कौंसिल नाभा के प्रधान रजनीश कुमार मित्तल शैंटी, कार्यकारी अधिकारी सुखदीप सिंह कम्बोज और क्लर्क हरजिन्दरपाल को तुरंत प्रभाव से निलंबित किया गया है। यह जानकारी स्थानीय निकाय मंत्री स. नवजोत सिंह सिद्धू ने आज यहां जारी प्रैस बयान के द्वारा दी। स. सिद्धू ने कहा कि नगर कौंसिल नाभा के पास गरीब परिवारों के मकान बनाने के लिए हाउसिंग फॉर ऑल स्कीम और स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत आए फंडों का उक्त अधिकारियों ने ठेकेदारों को मिलीभुगत से गलत भुगतान कर दिया।

उन्होंने कहा कि यह मामला बहुत गंभीर था और इन फंडों के दुरुपयोग के मामले में विभाग के मुख्य सचिव ए वेनू प्रसाद द्वारा नगर कौंसिल नाभा के प्रधान, कार्यकारी अधिकारी और क्लर्क का पक्ष सुनने के लिए उनको निजी सुनवाई के लिए बुलाया गया। सुनवाई के उपरांत तीनों को मुअत्तल करने के आदेश दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि विभाग द्वारा आदेश दिए गए हैं कि ठेकेदार 10 दिनों के अंदर फंड वापस जमा करवाएं। उन्होंने कहा कि गरीबों के लिए आया पैसा गरीबों के लिए ही खर्चा जायेगा। स. सिद्धू ने कहा कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह द्वारा इस संबंधी स्पष्ट हिदायतें हैं कि भ्रष्टाचार के ऐसे किसी मामले को सहन नहीं किया जायेगा।

उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार के ऐसे किसी भी मामले में दोषी पाए जाने वालों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जायेगी। स्थानीय निकाय मंत्री ने पिछली सरकार द्वारा भी ऐसी ही जानबुझ कर की गई लापरवाही की उदाहरण देते हुए कहा कि केंद्र सरकार द्वारा राजीव आवास योजना के अंतर्गत 70 करोड़ रुपए आए थे, जो वित्त विभाग की तरफ से रिलीज नहीं किये गए। फंड रिलीज न किये जाने के कारण केंद्र सरकार को प्रयोग सर्टीफिकेट (यू.सी.) नहीं दे सके जिस कारण केंद्र सरकार ने फंड वापस मंगवा लिए थे। 
 

Related Stories: