Thursday, February 21, 2019 11:06 AM

HDFC बैंक के वाइस प्रेसिडेंट की हत्या में नया खुलासा, 30 हजार की EMI के लिए मर्डर

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज) : एचडीएफसी बैंक के वाइस प्रेसिडेंट सिद्धार्थ संघवी की हत्या पर स्थानीय पुलिस ने नया खुलासा किया है। पुलिस का दावा है कि इस हत्या में न तो किसी सुपारी किलर की कोई भूमिका है और न ही पदोन्नति के लिए संघवी की हत्या की गयी। हत्या के पीछे का कारण कुछ और ही है। मसलन इस मर्डर में हत्यारे का मोटिव बेहद चौंकाने वाला है। हत्यारे सरफराज शेख ने महज ईएमआई चुकाने के लिए संघवी की हत्या कर दी। 26 वर्षीय शेख ने गिरफ्तारी से पहले पुलिस को उलझाने के लिए कई बार अपने बयान बदले थे। पहले हत्या की वजह ईष्र्या बताने वाली पुलिस ने कहा कि हत्या की मुख्य वजह लूट थी और शेख ने 30 हजार रुपये की श्वरूढ्ढ चुकाने के लिए संघवी को मार डाला।

जब आरोपी शेख को भोइवाड़ा मजिस्ट्रेट कोर्ट के सामने पेश किया गया तब उससे पूछा गया कि क्या वह कुछ कहना चाहता है? इसके बाद शेख ने अपना हाथ उठाते हुए विटनेस बॉक्स में खड़ा हो गया। उसके बाद शेख ने हत्या का मोटिव बताया। उसने सबसे पहले कहा, हां सर, मैंने उन्हें मार डाला। यह मेरी भयंकर भूल थी। शेख ने कहा कि उसने मोटरसाइकिल खरीदने के लिए लोन लिया था। पिछले 2-3 महीने से वह लोन नहीं चुका पाया था। तब उसने संघवी को लूटने का फैसला किया लेकिन जल्दी में मैंने उनकी हत्या कर दी। 

शेख ने पुलिस को बताया था कि उसे पैसों की सख्त जरूरत थी इसीलिए उनसे लूट की योजना बनाई। उसे उम्मीद थी कि संघवी से उसे 30-3 हजार रुपये मिल जाएंगे। बता दें कि बुधवार से गायब चल रहे संघवी का शव सोमवार को कल्याण के हाजी मलंग इलाके में पाया गया। पुलिस ने बताया था कि जब शेख और संघवी के बीच पैसे को लेकर पार्किंग में विवाद हुआ तो संघवी ने अलार्म बजा दिया था, जिससे घबराकर शेख ने उनपर हमला कर दिया। हत्या करने के बाद शेख ने संघवी के शव को कार में रखा और हाजी मलंग के पास लाकर फेंक दिया। 

आपको बता दें कि पहले वह पुलिस को उलझाना चाहा था लेकिन जब पुलिस ने सख्ती की तो वह सारी बातें कबूल दी। इससे पहले दिए गए बयान में शेख ने पुलिस को बताया था कि उसे तीन लोगों ने हत्या का कॉन्ट्रैक्ट दिया था लेकिन उसकी यह बात गलत निकली। वह इस बात को पुष्ट नहीं कर सका और जो उसने किया वह कबूल लिया। उसने कबूला कि वह पैसे की कमी के कारण बैंक अधिकारी की हत्या कर दी।

कॉन्ट्रैक्ट वर्कर शेख, संघवी के लोअर परेल ऑफिस के पार्किंग में संघवी की कार की पिछली सीट पर बैठा था और उसने वीपी की गर्दन पर चाकू लगा रखा था। जैसे ही संघवी घूमे उनकी गर्दन कट गई। तब संघवी कार ने नीचे उतरे और अलार्म बजा दिया। तभी डरे हुए शेख ने संघवी का पीछा किया और उनपर 13 बार चाकुओं से हमला कर उनकी हत्या कर दी। 
 

देश की सबसे बड़ी और तेज WhatsApp News Service से जुड़ने के लिए हमारे नंब 7400043000 पर Missed Call दें। इस नंबर को Save करना मत भूलें।